केंद्र के मोटर व्हीकल एक्ट पर ममता का बड़ा बयान,कहा लागू नहीं होगा कानून

केंद्र के मोटर व्हीकल एक्ट पर ममता का बड़ा बयान,कहा लागू नहीं होगा कानून
केंद्र के मोटर व्हीकल एक्ट पर ममता का बड़ा बयान,कहा लागू नहीं होगा कानून

Prabhat Kumar Gupta | Updated: 11 Sep 2019, 06:49:21 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

केंद्र का नया मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का यह कानून पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा।

कोलकाता.
केंद्र का नया मोटर व्हीकल एक्ट को लेकर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार का यह कानून पश्चिम बंगाल में लागू नहीं होगा। तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो बनर्जी ने इसे आमलोगों पर बड़ा बोझ डालना बताया है। इसलिए हम इसे बंगाल में लागू नहीं होने देंगे। ममता ने एनवी एक्ट में नए संशोधनों पर तीव्र आपत्ति जताई है। उनके अनुसार मोटर व्हीकल कानून गरीब और मध्यम वर्ग के लोगों पर बड़ा बोझ के समान है। ममता ने नए मोटर व्हीकल एक्ट का जिक्र करते हुए कहा कि मोटर व्हीकल एक्ट को हम अभी लागू नहीं कर सकते।

जागरूकता फैला रही राज्य सरकारः

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ‘सेफ ड्राइव, सेव लाइफ’ के तहत लोगों में जागरूकता फैला रही है। ताकि लोग सही तरीके से ड्राइव करें और अपनी जिंदगी बचाएं। ऐसा हर किसी को कह रहे हैं। फलस्वरूप राज्य में सडक़ दुर्घटनाएं कम हुई हैं। ममता ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस उक्त कानून का संसद में में भी विरोध किया था। संशोधित एमवी एक्ट के तहत केंद्र राज्य के संघात्मक ढांचे में हस्तक्षेप तक रहा है।

जनता पर और अधिक बोझ बढ़ेगा:

ममता ने कहा कि मोटर व्हीकल एक्ट में लिया गया निर्णय मानवाधिकारों देखते हुए लेना चाहिए। राज्य में गरीब लोग भी हैं। उनके पास भारी भरकम जुर्माना देने के लिए पैसे कहां से आएंगे। नए एक्ट पर ममता बनर्जी ने कहा कि उन्होंने अपने अधिकारियों से इस विषय में बातचीत भी की। अधिकारियों ने कहा कि अगर हम इस एक्ट को लागू करते हैं तो जनता पर और अधिक बोझ बढ़ेगा। उल्लेखनीय है कि नए एक्ट में लोगों की जेब पर पड़ रहे भारी भरकम जुर्माने से लोग परेशान हैं। 1 सितंबर से लागू नए नियमों के चलते लोगों को ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर भारी भरकम चालान देना पड़ रहा है। कई राज्यों में लोग इस पर विरोध जता रहे हैं।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned