बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने किस बात पर दी अमित शाह को चुनौती

तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो तथा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को सीएए के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह को कड़ी चुनौती दी है।

दार्जिलिंग.
तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो तथा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को सीएए के मुद्दे पर गृह मंत्री अमित शाह को कड़ी चुनौती दी है। उन्होंने गृह मंत्री शाह से नागरिकता संशोधित कानून (सीएए) की धाराओं पर स्पष्टीकरण मांगा और कहा कि केन्द्र इस मुद्दे पर झूठ फैलाकर लोगों को भ्रमित कर रहा है। सीएए के विरोध में भाजपा के गढ़ दार्जिलिंग में पदयात्रा कर ममता ने पहाड़वासियों को एकजुट होकर मुखर होने का आह्वान किया। ममता ने शाह पर तंज कसते हुए कहा कि देश के गृह मंत्री बड़ी-बड़ी बातें कर रहे हैं। विपक्ष को पाकिस्तानी कह तालियां बटोर रहे हैं। वे सुबह कुछ बोल रहे हैं और शाम को कुछ और। उनके परस्पर विरोधी बयान को जनता समझ रही है। ममता ने कहा कि विपक्ष को गाली देने से काम नहीं चलेगा।

ममता ने शाह से कहा कि सीएए को लेकर यदि हमलोग झूठ बोल रहे हैं तो हकीकत क्या है, बताइए? उल्लेखनीय है कि गृह मंत्री शाह ने मंगलवार को लखनऊ में सीएए के समर्थन में आयोजित रैली मंच से ममता पर निशाना साधा था। इसके ठीक 24 घंटे के भीतर ममता ने दार्जिलिंग में सभा मंच से शाह को इस बात की चुनौती दी कि वह सीएए के विभिन्न धाराओं पर स्पष्टीकरण दें। तृणमूल सुप्रीमो ने देश की खस्ताहाल आर्थिक व्यवस्था और बेरोजगारी के प्रसंग पर मोदी सरकार पर जमकर बरसीं।
पहाड़वासियों के साथ की पदयात्रा:
तृणमूल सुप्रीमो बनर्जी ने दार्जिलिंग में सीएए, राष्ट्रीय नागरिकता पंजी(एनआरसी) और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (एनपीआर) के खिलाफ पदयात्रा की। यह उनकी पहली पदयात्रा थी। दार्जिलिंग में करीब 5 किमी. की पदयात्रा के बाद दार्जिलिंग चौरास्ता पर आयोजित सभा को सम्बोधित करते हुए ममता ने कहा कि सीएए को लेकर पहाड़वासियों का बहुत बड़ा वर्ग आतंकित और दहशत में है। उन्होंने पहाड़वासियों को संरक्षण देने की बात से आश्वस्त किया। असम में एनआरसी के कारण लाखों गोरखा बेघर हो गए। हम दार्जिलिंग में ऐसा होने की अनुमति नहीं देंगे क्योंकि यहां हमारी सरकार है। केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए ममता ने कहा कि हमारा वोट लेकर प्रधानमंत्री हमें ही देश से बाहर करना चाह रहे हैं।

ममता ने सवाल किया कि फिर हमे स्वाधीनता की बात करनी होगी। अभी भाजपा को लगा कि देश में नागरिकता संशोधित कानून लागू करना पड़ेगा। पहाड़वासियों को भरोसा दिलाते हुए ममता ने कहा कि पहाड़ से एक भी गोरखा को देश से बाहर जाना नहीं पड़ेगा। सीएए से आतंकित होने की आवश्यकता नहीं है। इसके रद्द नहीं होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। बनर्जी ने कहा कि केन्द्र सरकार केवल गैर-भाजपा शासित राज्यों में सीएए को आगे बढ़ाने की कोशिश कर रही है।

CAA
Show More
Prabhat Kumar Gupta Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned