CORONA EFFECT.....आमजन तक आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई न कर अगर न निभाया इंसानियत का फर्ज तो मानव कहलाने लायक नहीं

WEST BENGAL CORONA NEWS-कोरोना-तालाबंदी की मार के बावजूद चट्टान की तरह डटे रेलवे पार्सल डिपार्टमेंट कर्मचारी , लोगों की सेवा में हैं दिन-रात जुटे

By: Shishir Sharan Rahi

Published: 20 May 2020, 04:08 PM IST

BENGAL CORONA ALERT: कोलकाता. कोरोना महामारी के दरम्यान आमजन तक आवश्यक वस्तुओं की सप्लाई न कर अगर इंसानियत का फर्ज न निभाया तो फिर हम मानव कहलाने लायक ही नहीं। कोरोना महामारी और तालाबंदी की मार के बावजूद बेखौैफ लोगों की सेवा में चट्टान की तरह डटे रेलवे पार्सल डिपार्टमेंट कर्मचारियों ने यह बेबाक टिप्पणी की। तालाबंदी में लोगों को दैनिक जरुरत की चीजें सप्लाई करने के लिए रेलवे के पार्सल डिपार्टमेंट के कर्मचारी रोजाना डटे हुए हैं। मुश्किल घड़ी में भी वे लगातार ड्यूटी कर पार्सल स्पेशल ट्रेनों में जरुरत की चीजों की लोडिंग कर रहे। हावड़ा स्टेशन के न्यू कांप्लेक्स के 22 और 23 नंबर प्लेटफार्म पर रोजाना ईस्टर्न और साउथ-ईस्टर्न रेलवे की कई पार्सल स्पेशल ट्रेन सामान लेकर पहुंच रही और यहां से उन जगहों की जरुरत की चीजें भेजी जा रही। हावड़ा स्टेशन पर पार्सल स्पेशल ट्रेनों की लोडिंग-अनलोडिंग का काम देखने वाले एक कर्मचारी ने बताया कि ईस्टर्न रेलवे की 12 से ज्यादा पार्सल स्पेशल ट्रेन माल लेकर हावड़ा स्टेशन आ रही हैं। इनमें कुछ दैनिक तौर पर चल रही और कुछ सप्ताह में 3 से 4 दिन। हावड़ा से दिल्ली, अमृतसर, जमालपुर, मुंबई, गुवाहाटी, भोपाल समेत विभिन्न जगहों पर पार्सल एक्सप्रेस सामान लेकर जा रही हैं। इनमें सब्जियां, मछलियां, अंडे वगैरह शामिल हैं। ई-कॉमर्स कंपनियों का भी बहुत सामान ट्रेनों से आ रहा। कर्मचारी ने नाम न बताने पर कहा कि कोरोना महामारी के दरम्यान जरुरी सेवा प्रदान कर मानवता का परिचय नहीं देंगे तो फिर मानव कहलाने लायक ही नहीं। इसी तरह से साउथ-ईस्टर्न रेलवे पार्सल स्पेशल ट्रेनों की लोडिंग-अनलोडिंग का काम देख रहे एक कर्मचारी ने कहा कि हावड़ा से साउथ-ईस्टर्न रेलवे की 2 पार्सल स्पेशल चल रही हैं। एक चेन्नई हो यशवंतपुर जा रही और दूसरी सिकंदराबाद। एक पार्सल स्पेशल रोजाना यशवंतपुर से आती है। यशवंतपुर से अंडा और कर्नाटक के गुंटाकल से मछलियां और फल आते हैं। रेलवे मेल सर्विस का भी काफी सामान आता है। इसके अलावा सैनेटाइजर, मास्क, सर्जिकल और चिकित्सा उपकरण भी पहुंचते हैं जबकि यहां से सब्जियां, मछलियां और फिश सीड यशवंतपुर और विजयवाड़ा जाते हैं। एक पार्सल स्पेशल में 5 और अधिकतम 9 वीपी और 2 एसएलआर होते हैं। एक वीपी की क्षमता 23 टन और एक एसएलआर की क्षमता 8 टन है।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned