WEST BENGAL NEWS-साध्वी स्वर्णरेखा के सान्निध्य में वर्चुअल माध्यम से क्षमायाचना कार्यक्रम

साउथ हावड़ा श्रीजैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा का कार्यक्रम

By: Shishir Sharan Rahi

Published: 24 Aug 2020, 05:05 PM IST

BENGAL NEWS-साउथ हावड़ा. साउथ हावड़ा श्रीजैन श्वेताम्बर तेरापंथी सभा की ओर से आचार्य महाश्रमण की शिष्या साध्वी स्वर्णरेखा के सान्निध्य में समयानुकूल टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए वर्चुअल माध्यम से क्षमायाचना कार्यक्रम २३ अगस्त को आयोजित किया गया। साध्वी ने क्षमा पर्व की महत्ता उजागर करते हुए श्रद्धालुओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि जैन धर्मावलंबियों के लिए क्षमा को 10 धर्मों के अंतर्गत लिया गया है। धर्म का ह्यर्द है-क्षमा। क्षमा ऐसी औषध जो एक भव के नहीं अनेक भवों का इलाज करने में समर्थ है। जो इसके अर्थ सही रूप से जान लेता है वह मानसिक प्रसन्नता के रस में दसों अंगुलियों को डुबा देता है। क्योंकि बात और बाल को जितना काटेंगे उतनी बढ़ती जायेगीं। अत: अंतर से निशल्य बनकर अभिमान पर ब्रेक लगा दे जहां अभिमान एवं क्रोध वहां कटुता का पानी जहर घोलता जाएगा। भगवान महावीर भी अपने जीवन में अपमान, उपसर्गों को सहन करके क्षमाशूर कहलाए। हम सौभाग्यशाली हैं कि तीर्थंकर तुल्य क्षमाशूर आचार्य महाश्रमण का आसन-शासन प्राप्त है जो सबको क्षमा धर्म को अपनाने की सीख सम्यकत्वश्री को सुरक्षित रखने के लिए देते रहते हैं। साध्वी वृंद ने पूज्य चरणों में श्रद्धा-अर्ध्य समर्पित करते हुए क्षमा- याचना की। समूचे संघ से नत होकर खमत-खामणा किया। सभी संघीय-स्थानीय सभाओं से जान-अनजान में हुई वैर-विरोध दूर करने की बात कहते हुए संपूर्ण श्रावक समाज से क्षमा याचना की। क्षमा को धारण करने धरती जो क्षमा का पर्याय है क्योंकि उसके पेट में पेट्रोल भी एवं पानी भी है। वह पेट्रोल को उबलने से रोकने के लिए पानी का छिडक़ाव करती रहती है। हम भी क्रोध रूपी वैर - विरोध कलुषता रूपी पेट्रोल में क्षमा के पानी का छिडक़ाव करते रहें तभी क्षमा पर्व की सार्थकता हो सकेगी। क्षमा यापना के कार्यक्रम का प्रारम्भ अर्हम मंडल के मंगलाचरण से हुआ। कार्यक्रम में महासभा अध्यक्ष सुरेश गोयल, मुख्य न्यासी भंवरलाल बैद, एवं विभिन्न केन्द्रीय संस्थाओं के पदाधिकारी बन्नेचन्द मालू, तुलसी कुमार दुगड़?, कमल दुगड़, बिनोद बैद, सुरेन्द्र दुगड़, भीकमचंद पुगलिया, सुशील जैन (चोरडिया), अनन्त बागरेचा, शांता पुगलिया, साउथ हावडा सभाध्यक्ष सुशील गिडीया, संजय नाहटा, लक्ष्मी गिडीया, पवन बेंगाणी, बिरेन्द्र सेठिया, कोलकाता सभाध्यक्ष बुधमल लूणिया थे। साथ ही स्थानीय सभा के राकेश संचेती, अरुण नाहटा, मनोज सिंघी, खेमचन्द रामपुरिया, संजय सिंघी, नागराज बरमेचा, मानक नाहटा, स्वरूपचंद संचेती, उम्मेद नाहटा, राजेन्द्र संचेती, दिलीप चोपड़ा, गुलाबचंद बाफना एवं ललित छाजेड़ ने अपनी भावनाएं व्यक्त की। अंत मे महासभा अध्यक्ष सुरेश गोयल ने सम्पूर्ण श्रावक समाज के परम पूज्य गुरुदेव से एवं साध्वी वृन्द से खमतखामणा करवाये। प्रतीक्षा बोहरा एवं उनकी पूरी टीम ने कार्यक्रम को सफल बनाने में श्रम एवं समय का अमूल्य नियोजन किया। संचालन सभा के मंत्री बसन्त पटावरी ने किया। ये जानकारी साउथ हावड़ा सभा के मीडिया प्रभारी मनोज बोहरा से प्राप्त हुई।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned