WEST BENGAL---ये जिंदगी उसी की है...

परचम ने मनाया लता का जन्मोत्सव

By: Shishir Sharan Rahi

Published: 30 Sep 2020, 04:24 PM IST

LATA BIRTHDAY CELEBRATIONS--कोलकाता। संस्कृति का संवाहक परचम ने भारत रत्न लता मंगेशकर का 91वां जन्मोत्सव वर्चुअल माध्यम से मनाया। प्रस्तावना रखते हुए परचम के संस्थापक मुकुन्द राठी ने कहा कि लता को उलट कर पढ़ें तो ताल होता है। ताल और लता का नैसर्गिक संबंध है। कोई ताल जब लता का स्वर पाता है तो वह गीत अमर हो जाता है। इन्हीं अमर गीतों की प्रस्तुति से लता मंगेशकर का जन्मोत्सव मनाते हुए उनके दीर्घायु की कामना की। नीलमणि राठी के संगीत निर्देशन में गायिकाएं मारूति, गायत्री एवं संगीता ने आएगा आनेवाला, ओ बसंती पवन पागल, ओ पालनहारे, प्यार किया तो डरना क्या, ये जिंदगी उसी की है....आदि गानों की प्रस्तुति से लोगों को मंत्रमुग्ध कर दिया। गायक के रूप विजय ओझा सहयोग किया। संचालन में सुप्रिया बैद ने लता के कई आयामों पर प्रकाश डाला। इस कार्यक्रम को देश के विभिन्न हिस्सों से लोगों ने देखा। लता मंगेशकर भारत की सबसे लोकप्रिय और आदरणीय गायिका हैं, जिनका छ: दशकों का कार्यकाल उपलब्धियों से भरा पड़ा है। हालाँकि लता जी ने लगभग तीस से ज्यादा भाषाओं में फ़िल्मी और गैर-फ़िल्मी गाने गाये हैं लेकिन उनकी पहचान भारतीय सिनेमा में एक पार्श्वगायक के रूप में रही है।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned