बंगाल में कोरोना संक्रमण का 10 वां मामला, पीडि़त न विदेश गया न बंगाल से बाहर

पश्चिम बंगाल ( West Bengal) में कोरोना पॉजिटिव ( CORONO) का 10 वां मामला सामने आया है। हैरानी वाली बात यह है कि पीडि़त न तो विदेश गया था और न ही बंगाल से बाहर।

कोलकाता.
कोलकाता के एक निजी अस्पताल में भर्ती कोल इंडिया के एक पूर्व कर्मचारी के नमूनों के परीक्षण में उसे कोरोना पाजिटिव पाया गया है। 66 साल के पीडि़त को 23 मार्च को ईएमबाइपास स्थित पियरलेस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उन्हें आइसोलेशन में रखा गया था। उनकी लार के नमूनों में केंद्रीय एजेंसियों ने गुरुवार की शाम कोरोना संक्रमण की पुष्टि की है। बिना विदेश या बंगाल से बाहर गए व्यक्ति के कोरोना पीडि़त होने से राज्य के स्वास्थ्य विभाग और चिकित्सकों की चिंता बढ़ रही है। संक्रमण के सामुदायिक स्तर पर प्रसारित होने की भी आशंका बलवती हो रही है।
मिली जानकारी के मुताबिक पीडि़त नयाबाद निवासी है। उनका आईसीयू में इलाज चल रहा है। पीडि़त को जीवन रक्षक प्रणाली में रखा गया है। उनकी हालत गंभीर बताई जा रही है। वहीं पीडि़त के परिवार के चार जनों को राजारहाट स्थित क्वारेंटाइन मे रखा गया है। उनकी लार के नमूने जांच के लिए भेजे गए हैं।
13 मार्च को गए थे विवाह समारोह में एगरा
पीडि़त के परिजनों के मुताबिक पीडि़त पारिवारिक विवाह समारोह में शामिल होने के लिए 13 मार्च को पूर्व मिदनापुर जिले के एगरा गए थे। जहां लगभग तीन सौ लोगों का जमावड़ा हुआ था। पीडि़त के पुत्र ने दावा किया है कि समारोह में आमंत्रित कोई भी व्यक्ति विदेश से नहीं लौटा था। न ही दूसरे राज्य से कोई मेहमान आया था। समारोह से लौटने के बाद उनकी तबियत खराब हो गई। परिजनो ंने हालत बिगडऩे पर उन्हें 23 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया।
सतर्क हुआ पूर्व मिदनापुर प्रशासन
एगरा में संक्रमण की आशंका को देखते हुए जिला प्रशासन ने विवाह समारोह में शामिल हुए लोगों की पहचान कर उन्हें आइसोलेशन में रहने का निर्देश दिया है। उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जा रही है।
डॉक्टर दे रहे एड्स की दवाई
मरीज की चिकित्सा मे ंलगी डॉक्टरों की टीम उन्हें एंटी-रेट्रोवायरल दवाएं दे रही हैं। जिनका उपयोग एड्स मरीजों पर किया जाता है। राज्य में कोरोना संक्रमित व्यक्ति पर इस तरह की दवाओं के इस्तेमाल का यह पहला मामला बताया जा रहा है। पियरलेस अस्पताल के डॉ. सुदीप्ता मित्रा ने बताया कि पीडि़त की हालत स्थिर लेकिन गंभीर है। उन्हें वेंटिलेशन में रखा गया है। डाक्टर उन्हें उबारने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं।

Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned