West Bengal covid-19: 14 हजार की मांग की, भेजी 2500 किट

- सीएम ममता ने किया दावा

By: Ashutosh Kumar Singh

Published: 23 Apr 2020, 02:38 PM IST

कोलकाता

निम्न स्तर के आरोप लगने के बाद केंद्र सरकार ने रैपिड टेस्ट किट को वापस ले लिया। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने बुधवार को सचिवालय नवान्न में इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि डिफेक्टिव होने के कारण केंद्र ने आरटीपीसीआर किट को वापस ले लिया। फलस्वरूप तय समय में कोरोना की जांच नहीं होने पर मरीज की जान भी जा सकती है। इसके लिए कौन जिम्मेवार होगा। राज्य में व्यापक स्तर पर जांच नहीं किए जाने के आरोपों पर बरसते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जहां राज्य को 14,000 टेस्ट किट की आवश्यकता थी वहां केंद्र ने मात्र 2500 किट की सप्लाई की है। यही नहीं केंद्र ने डिफेक्ट की बात कहते हुए रैपिड टेस्ट किट और आईटीपीसीआर किट भी वापस ले ली। उन्होंने इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए कहा कि राज्य में पिछले 24 घंटे में 855 लोगों के नमूने जांचे गए। उन्होंने कहा कि एक-एक टेस्ट में 2-2 किट की जरूरत पड़ती है। उनके अनुसार केंद्र सरकार राज्य को टेस्ट किट की सप्लाई करने में पूरी तरह विफल साबित हो रही है।
--
बंगाल को बदनाम करने की साजिश
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना की जांच कम हो रही है, ऐसी अफवाह फैलाकर पश्चिम बंगाल को बदनाम करने की साजिश हो रही है। उन्होंने कहा कि सप्लाई किए टेस्ट किट को वापस लेने के बावजूद राज्य में 7037 लोगों की जांच की गई।
--
लोग खा रहे हैं या नहीं
ममता बनर्जी ने केंद्रीय टीम के दौरे को लेकर गृह मंत्रालय की सख्त चि_ी पर भी कटाक्ष किया। उन्होंने कहा कि "केंद्र सरकार वहां से टीम भेज रही है यह देखने कि बंगाल के लोग खा रहे हैं या भूखे मर रहे हैं, नहा रहे हैं कि नहीं? उसी के बीच सख्त चि_ी भी भेज रहे हैं। उनका अधिकार है भेज सकते हैं।"

Ashutosh Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned