बंगाल में गोली मारो नारे लगाने वाले तृणमूल पदाधिकारी पर कार्रवाई

तृणमूल कांग्रेस (Trinmool Congress) ने पार्टी के उस पदाधिकारी पर कार्रवाई की है जिसने मंगलवार को टॉलीगंज से निकाले गए जुलूस में आपत्तिजनक नारेबाजी की थी।

By: Paritosh Dube

Published: 21 Jan 2021, 08:24 PM IST

कोलकाता.
महानगर कोलकाता के टॉलीगंज में मंगलवार को निकाले गए तृणमूल कांग्रेस के जुलूस में हुई आपत्तिजनक नारेबाजी के मामले में पार्टी ने कार्रवाई करते हुए कोलकाता नगर निगम के 112 नंबर वार्ड के युवा सभापति सुभाष साऊ को उनके पद से हटा दिया है। इससे पहले सोमवार को कोलकाता में भाजपा का रोड शो हुआ था। जिसमें बड़ी संख्या में पार्टी के समर्थक इक_ा हुए थे। मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस में उसी रूट शक्ति प्रदर्शन करते हुए जुलूस निकाला था। जिसमें पार्टी के कुछ समर्थकों को आपत्तिजनक नारेबाजी करते हुए वीडियो में देखा गया था। मामले के तूल पकडऩे के बाद नारेबाजी की भाषा को लेकर चारों ओर निंदा हुई थी। वहीं बुधवार को हुगली में भाजपा के रोड शो में आपत्तिजनक नारेबाजी हुई थी। जिस मामले में देर रात भाजपा के तीन नेताओं को गिरफ्तार किया गया था। जिन्हें अदालत में पेश करने पर 9 दिनों की जेल हिरासत में भेज दिया गया। प्रशासन के इस सख्त कदम के बाद यह सवाल उठने लगे थे कि एक जैसे नारे लगने के बावजूद तृणमूल के नेताओं पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं हुई। बढ़ते दबाव के बीच तृणमूल कांग्रेस ने कोलकाता नगर निगम के 112 नंबर वार्ड के युवा अध्यक्ष सुभाष साऊ को उनके पद से हटा दिया। मंगलवार को हुई इस नारे बाजी की घटना के बाद तृणमूल कांग्रेस की ओर से कहा गया था कि नारेबाजी करने वाले लोग जुलूस के पीछे की ओर थे, इसलिए नेताओं का हस्तक्षेप संभव नहीं हो पाया। हालांकि पार्टी की ओर से यह भी कहा गया था कि जिस भाषा में नारेबाजी की गई थी, पार्टी उसका समर्थन नहीं करती है। साथ ही नारेबाजी करने वालों पर कार्रवाई की बात भी तृणमूल कांग्रेस की ओर से कही गई थी।

Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned