हड़ताल में वाहनों के नुकसान पर मिलेंगे 75 हजार

हड़ताल में वाहनों के नुकसान पर मिलेंगे 75 हजार

Prabhat Kumar Gupta | Publish: Sep, 08 2018 10:08:09 PM (IST) Kolkata, West Bengal, India

पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों में वृद्धि सहित कई अन्य मुद्दों पर सोमवार को कांग्रेस और वाम दलों की प्रस्तावित हड़ताल का सामना करने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने कई अहम निर्णय लिया है।

 

- राज्य सरकार ने लिया निर्णय

कोलकाता.

पेट्रोलियम पदार्थों के मूल्यों में वृद्धि सहित कई अन्य मुद्दों पर सोमवार को कांग्रेस और वाम दलों की प्रस्तावित हड़ताल का सामना करने के लिए पश्चिम बंगाल सरकार ने कई अहम निर्णय लिया है। हड़ताल के दौरान वाहनों में तोडफ़ोड़ होने पर 72 घंटे के भीतर 75,000 रुपए बतौर क्षतिपूर्ति दी जाएगी। सचिवालय नवान्न में शनिवार को उच्चस्तरीय बैठक के बाद आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा की गई। आईजी (कानून व्यवस्था) अनुज शर्मा ने बताया कि पुलिस प्रशासन प्रस्तावित हड़ताल के दिन ऐहतियात के कदम उठाए हैं। वाहनों में तोडफ़ोड़ से हुए नुकसान की समीक्षा करने के बाद ही मुआवजा की राशि दी जाएगी। तोडफ़ोड़ होने के 12 घंटे के भीतर स्थानीय थाने में प्राथमिकी दर्ज करना अनिवार्य होगा। सूत्रों ने बताया कि इस संदर्भ में परिवहन विभाग ने एक विज्ञप्ति जारी किया है।

श्रम दिवस नष्ट नहीं-

तृणमूल कांग्रेस की सरकार ने हड़ताल के नाम पर श्रम दिवस नष्ट नहीं करने को लेकर कड़ा तेवर अपनाया है। पार्टी तथा राज्य सरकार सबकुछ सचल रखते हुए केंद्र के खिलाफ सडक़ों पर रहेगी। सरकारी कार्यालयों सहित शिक्षण संस्थानों को खोले रखने पर जोर दिया जा रहा है। केंद्र सरकार के विरोध में उक्त मुद्दों का समर्थन करने के बावजूद तृणमूल कांग्रेस ने सप्ताह के प्रथम दिन होने वाली हड़ताल से खुद को अलग रखा है। पार्टी महासचिव तथा राज्य के शिक्षा मंत्री डॉ. पार्थ चटर्जी ने आधिकारिक तौर पर इसकी घोषणा की है। दूसरी ओर, राज्य सरकार ने हड़ताल के वक्त राज्य में आम जनजीवन सामान्य रखने का ना केवल भरोसा दिया है बल्कि राज्य सरकार के कार्यालयों में कर्मचारियों की उपस्थिति अनिवार्य करते हुए फरमान जारी कर दिया है।

सडक़ परिवहन सामान्य रखने का भरोसा-
राज्य प्रशासन के निर्देशानुसार परिवहन विभाग हड़ताल के दौरान सडक़ परिवहन सामान्य रखने की कवायद में है। विभागीय मंत्री शुभेन्दू अधिकारी के अनुसार कोलकाता सहित उपनगरों तथा जिलों में सडक़ परिवहन को सामान्य रखी जाएगी। कोलकात के सभी रूटों में पर्याप्त संख्या में सरकारी बसें उतारने की तैयारी है। परिवहन विभाग ने निजी बसों व मिनी बसों तथा टैक्सी ऑपरेटरों को सोमवार को आमदिनों की तरह सक्रिय रहने का आग्रह किया है।

Ad Block is Banned