क्यों थम नहीं रहा ममता पर एनआरसी को ले कर विपक्ष का धारदार वार

क्यों थम नहीं रहा ममता पर एनआरसी को ले कर विपक्ष का धारदार वार
केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को एनआरसी पर पत्र देती मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

Manoj Kumar Singh | Updated: 19 Sep 2019, 04:19:46 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

PM Modi से NRC के बारे में बातचीत नहीं करने पर विपक्षी दलों कड़ा विरोध झेलने के दूसरे दिन Mamta Banerjee ने Home minister अमित शाह से मुलाकात की, एनआरसी के मुद्दे पर बात की और उन्हें पत्र सौपा। फिर भी ममता बनर्जी पर एनआरसी विरोधी प्रस्ताव का समर्थन करने वाले विपक्षी दलों के वार की धार कम नहीं हो रही है।

 

Mamta Banerjee ने शाह से की बंगाल छोड़ असम एनआरसी पर बात
बाकी 19 लाख लोगों को सूची में नाम दर्ज कराने का मौका देने की मांग की
विपक्षी दलों ने मुख्यमंत्री पर किया वार की धार तेज

आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार पर जवाब देने से किया इंकार
कोलकाता
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के बारे में बातचीत नहीं करने पर विपक्षी दलों कड़ा विरोध झेलने के दूसरे दिन पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की और एनआरसी के मुद्दे पर बातचीत की। इसके बावजूद ममता बनर्जी पर एनआरसी विरोधी प्रस्ताव का समर्थन करने वाले विपक्षी दलों का धारदार वार कम नहीं हो रहा है।
केन्द्र से समन्वय, समप्रिति और सौहार्द प्रकट करने के क्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलने के दूसरे दिन ममता बनर्जी ने गुरुवार को नई दिल्ली में अमित शाह से मिल कर असम एनआरसी के मुद्दे पर बात की और उन्हें पत्र सौपा।

पत्र में उन्होंने शाह से एनआरसी की सूची से बाहर किए गए असम के 19 लाख लोगों को भारतीय प्रमाणित करने के लिए मौका देने और उन्हें सूची में शामिल करने की मांग की। इस दौरान उन्होंने सारधा चिटफंड घोटाले के आरोपी आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार के बारे बातचीत होने से इंकार कर दिया।
शाह से बैठक के बाद ममता बनर्जी ने संवाददाताओं को बताया कि उन्होंने गृहमंत्री से असम एनआरसी के बारे में बात की। उन्हें बताया कि एनआरसी ठीक से नहीं हुआ है। सूची से बाहर किए गए 19 लाख लोगों को सूची में शामिल करने की मांग की, जिनमें अधिकतर बांग्ला भाषी होने के साथ ही हिन्दी भाषी, बिहारी, गोरखा, हिन्दू और मुसलमान भी हैं। वे सभी भारतीय नागरिक हैं।
ममता बनर्जी ने अमित शाह से इस दिशा में सकारात्मक पहल करने की उम्मीद भी जाहिर की, लेकिन उन्होंने केन्द्रीय गृह मंत्री से बंगाल में एनआरसी के मुद्दे पर बातचीत नहीं की। उन्होंने कहा कि मुलाकात के दौरान न शाह ने बंगाल में एनआरसी का मुद्दा नहीं उठाया और न ही इस पर कोई चर्चा हुई।
ममता के इस बयान पर हालही में बंगाल विधानसभा में पारित हुए एनआरसी विरोधी प्रस्ताव का भरपूर समर्थन करने वाली माकपा और कांग्रेस पहले दिन से ही हमला जारी रखा है। माकपा नेता और वाम मोर्चा विधायक दल के नेता सूजन चक्रवर्ती ने कहा कि ममता बनर्जी ने बंगाल में एनआरसी के खिलाफ प्रस्ताव पारित करवाया हमने उसका समर्थन किया और जब इस मुद्दे पर केन्द्रीय गृहमंत्री से बात करने का मौका आया तो उन्होंने असम एनारसी पर बातचीत कर रही है। वे शाह से भ्रष्टाचार में लिप्त अपने सांसद भतीजे अभिषेक बनर्जी और सारधा घोटाले के आरोप आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार को बचाने के लिए गई थी।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned