अभी से एक हों 2024 के लिए- ममता

- पश्चिम बंगाल (West Bengal ) की सत्ता में तीसरी बार आई तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने तृणमूल कांग्रेस की शहीद सभा में केन्द्र सरकार पर बड़े हमले किए। उन्होंने पेगासस जासूसी प्रकरण, कोरोना नियंत्रण जैसे ज्वलंत मुद्दों पर केन्द्र को निशाने पर लिया। वर्ष २०२४ के लोकसभा चुनाव के लिए विपक्षी पार्टियों का फ्रंट बनाने की अपील की।

By: Paritosh Dube

Published: 21 Jul 2021, 02:51 PM IST


कोलकाता.
शहीद सभा की सालाना सभा को संबोधित करते तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने बंगाल के लोगों को उनकी सरकार को तीसरी बार चुनने के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि आपने मनी, माफिया, मसल पॉवर, एजेंसी की ताकत को हराया है। राष्ट्रीय राजनीति में अपनी महत्वाकांक्षा जाहिर करते हुए कहा कि वर्ष 2024 में क्या होगा यह नहीं कह सकते लेकिन सभी विपक्षी पार्टियों को अभी से एक होना होगा। बंगाल तैयार है। सब एक साथ आएं। फ्रंट बनाएं और तैयारी करें। ममता ने कहा कि बीमारी की शुरुआती दौर में इलाज शुरू करें। उन्होंने कहा कि वे अगले हफ्ते दिल्ली जाएंगी, वहां विपक्ष के नेताओं से मुलाकात करेंगी।
----
पेगासस मामले पर बरसीं
तृणमूल सुप्रीमो ने कहा कि केन्द्र सरकार की ओर से फोन टैप किए जा रहे हैं। केन्द्र सरक गरीबों को पैसे देने की बजाए जासूसी में पैसे खर्च कर रही है। उन्होंने जासूसी प्रकरण सामने आने के बाद अपने मोबाइल पर प्लास्टर लगा दिया है। ममता ने कहा कि केन्द्र सरकार के मंत्रियों, न्यायाधीशों, मीडिया, अफसरों के फोन टैप कर रहे हैं। वे न्यायालयों से अनुरोध करेंगी कि जासूसी मामले की जांच के लिए अपनी निगरानी में सिट का गठन करें।

-----
कोरोना , संघवाद, पेट्रोल कीमतों पर बरसीं
तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ने कहा कि केन्द्र सरकार संघवाद को नुकसान पहुंचा रहा है। दो महीने में ईंधन की कीमत ४७ बार बढ़ी है। केन्द्र सरकार ने 3.7 लाख करोड़ रूपए आम लोगों से निकाले हैं। उन्होंने कहा कि पीएम केयर फंड का पैसा कहां है।
कोरोना नियंत्रण पर केन्द्र को विफल बताते हुए ममता ने कहा कि केन्द्र सरकार कोरोना की दवाई नहीं, ऑक्सीजन नहीं, वैक्सीन नहीं देती है, अंतिम संस्कार भी नहीं किया गया। दूसरी लहर में चार लाख लोग मारे गए।
---
बंगाल में नहीं हुई चुनाव बाद हिंसा
ममता ने कहा कि त्रिपुरा में तृणमूल को शहीद सभा पर कार्यक्रम नहीं करने दिया गया। क्या यह लोकतंत्र है। उन्होंने दोहराया कि बंगाल में चुनाव बाद राजनीतिक हिंसा नहीं हुई है। भाजपा नेता मानवाधिकार आयोग की रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं। लोकतंत्र खतरे में है।

Paritosh Dube
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned