कहां मांझी को जब पैसे नहीं मिले तो उसने बंद कर दी नौका सेवा? जानिए यहां.....

कहां मांझी को जब पैसे नहीं मिले तो उसने बंद कर दी नौका सेवा? जानिए यहां.....
कहां मांझी को जब पैसे नहीं मिले तो उसने बंद कर दी नौका सेवा? जानिए यहां.....

Shishir Sharan Rahi | Updated: 23 Sep 2019, 10:28:44 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

WEST BENGAL NEWS: BRIDGE ON RIVER COLLAPSE IN WEST BENGAL, जोखिम में जान: जब टूटा नदी पर लकड़ी पुल, तो रस्सी पकड़ कर रहे शिलावती नदी पार, पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर के चन्द्रकोना ब्लॉक का मामला

खडग़पुर (WEST BENGAL). पश्चिम बंगाल के पश्चिम मेदिनीपुर जिले के चन्द्रकोना ब्लॉक के दक्षिण चौक बेडबेडा गांव के ग्रामीण इन दिनों जान जोखिम में डालकर एक रस्सी के सहारे शिलावती नदी पार कर रहे हैं। रस्सी के सहारे नदी पार करने वालों में छात्र-छात्राएं और बुजुर्ग भी शामिल हैं। इलाके में पिछले दिनों हुई तेज बारिश के कारण शिलावती नदी पर बना लकड़ी का पुल टूट गया था। नदी पार करने के लिए ग्रामीणों के लिए यही लकड़ी का पुल एकमात्र सहारा था। दूसरी ओर स्थानीय पंचायत की ओर से नदी पार करने के लिए एक नाव की व्यवस्था की तो गई। लेकिन महज 2 दिन तक नाव चलाने के बाद मांझी को जब पैसे नहीं मिले तो उसने नाव चलाना बंद कर दिया।

यहां नदी पार करना आदत नहीं, बल्कि मजबूरी
दक्षिण चौक बेडबेडा गांव के लोगों को शिलावती नदी पार करना उनकी आदत नहीं, बल्कि मजबूरी है। शिलावती नदी के एक पार बेडबेडा गांव तो दूसरी ओर क्षीरपाइ गांव बसा है। क्षीरपाइ इलाके में स्कूल,बाजार, दवा दुकान और सरकारी कार्यालय हैं। पुल टूट जाने और एकमात्र नाव सेवा के पैसे की खातिर बंद हो जाने से ग्रामीणों ने शिलावती नदी के एक तट से दूसरे तट पर रस्सी बांध दी। नतीजा रस्सी पकड़ कर जान जोखिम में डालकर ग्रामीण इस उम्मीद में नदी पार कर रहे कि आखिरकार एक न एक दिन कभी तो फिर से आला अधिकारी इसी नदी पर पुल का निर्माण करेंगे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned