West Bengal:  सागर दत्त अस्पताल में रूसी वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल जनवरी में

  • सागर दत्त मेडिकल पीयरलेस के बाद दूसरा अस्पताल है जहां रूसी टीके के तीसरे चरण का परीक्षण होगा। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार...

By: Ashutosh Kumar Singh

Updated: 24 Dec 2020, 10:35 AM IST

कोलकाता

कोरोना से बचाव के लिए रूस में बने वैक्सीन स्पुतनिक वी का तीसरे चरण का ट्रायल जनवरी महीने में उत्तर 24 परगना के सागर दत्त मेडिकल कॉलेज अस्पताल में शुरू होगा। सागर दत्त मेडिकल पीयरलेस के बाद दूसरा अस्पताल है जहां रूसी टीके के तीसरे चरण का परीक्षण होगा। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, सागर दत्त मेडिकल कॉलेज की तकनीकी सलाहकार समिति ने कोरोना टीके के प्रयोगात्मक आवेदन को हरी झंडी दे दी है। इस अस्पताल में जनवरी के पहले सप्ताह से रूसी वैक्सीन का परीक्षण शुरू हो जाएगा। 100 लोगों को प्रायोगिक कोरोना वैक्सीन दी जाएगी। संयोग से, रूसी वैक्सीन का तीसरा चरण परीक्षण जनवरी के दूसरे सप्ताह से पीयरलेस में शुरू होने जा रहा है। अस्पताल के सूत्रों के अनुसार, 'स्पुतनिक वी' का परीक्षण देश के 15 केंद्रों में 1500 लोगों पर किया जाएगा। कोलकाता में 100 लोगों को टीका लगाया जाएगा। अगर सब ठीक रहा तो जनवरी के पहले सप्ताह में वैक्सीन आ जाएगी। परीक्षण के मुख्य जांचकर्ता चिकित्सक शुभज्योति भौमिक हैं। जिन 100 लोगों को प्रायोगिक वैक्सीन दी जाएगी, उनमें से 75 को वैक्सीन और 25 को वैक्सीन-सुरक्षित तरल प्लेसीबो प्राप्त होगा। समिति की मंजूरी के बाद तैयारी शुरू हो गई है। क्लिनिमेट नामक एक संगठन ने इस राज्य में नैदानिक परीक्षण में मध्यस्थ की भूमिका निभा रही है।
संस्थान के प्रमुख स्नेहेंदु कोन्रार ने कहा, "ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया की क्लीयरेंस मिलते ही ट्रायल शुरू हो जाता है। यह टीका शून्य से 20 डिग्री सेंटीग्रेड तापमान पर रखा जाना चाहिए। हैदराबाद की एक कंपनी भारत बायोटेक ने इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के साथ मिलकर कोवासीन विकसित किया है। स्कूल ऑफ ट्रॉपिकल मेडिसिन में परीक्षण का तीसरा चरण दिसंबर में शुरू होने वाला है। इसके अलावा, पीयरलेस और सागर दत्त के बीच 'स्पूतनिक वी' का तीसरा राउंड ट्रायल होगा।

Ashutosh Kumar Singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned