खडग़पुर में रावण दहन, हजारों की भीड़ से प्रशासन पर उठे सवाल

विजयदशमी की शाम खडग़पुर के रावण मैदान में हजारों लोगों की मौजूदगी में हुए रावण दहन के बाद प्रशासन पर सवाल उठ रहे हैं। कार्यक्रम में जिले के वरिष्ठ अधिकारियों की मौजूदगी ने विपक्ष को राज्य सरकार के खिलाफ एक और मुुद्दा थमा दिया है।

By: Paritosh Dube

Updated: 28 Oct 2020, 02:18 PM IST

खडग़पुर.
शहर के रावण मैदान में दशहरे के अवसर पर बुराई पर अच्छाई की विजय के स्वरूप रावण के पुतले का दहन किया गया। आयोजन में हजारों लोगों की भीड़ देखी गई।
रावण दहन कार्यक्रम में पश्चिम मेदिनीपुर कलक्टर रेशमी कमल, डीआइजी वी सोलोमन नेसा कुमार, खडग़पुर महकमा शासक वैभव चौधरी, खडग़पुर के एडिशनल एसपी काजी समसुद्दीन अहमद, खडग़पुर के विधायक प्रदीप सरकार सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे। मैदान में उमड़े हजारों लोगों की भीड़ को कोरोना प्रोटोकाल का उल्लंघन बताते हुए भाजपा ने प्रशासन पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है। साथ ही कोरोना संक्रमण बढऩे की सूरत में इसकी जिम्मेदारी प्रशासन पर होने की बात कही है। वहीं तृणमूल कांग्रेस ने नियम मानकर आयोजन किए जाने की बात कही है। प्रशासनिक अधिकारियों ने इस मसले पर कुछ भी नहीं कहा है।
-----------
1925 से हो रहा रावण दहन
शहर में रावण के पुतले के दहन की शुरुआत वर्ष 1925 से हुई थी। इस वर्ष कोरना काल में रावण के पुतले की उंचाई 48 फीट थी। जिसकी लागत दो लाख रुपये आई थी। रावण दहन कार्यक्रम में भव्य आतिशबाजी की गई। दूसरी ओर विजय दशमी के अवसर पर शहर की कई पूजा कमेटी ने देवी दुर्गा के प्रतिमाओं को विर्सजित कर दिया।

Paritosh Dube Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned