एड्स पीडि़ता ने जब बनाया मिड-डे मील, फिर क्या हुआ जाने

स्कूल में एड्स पीडि़ता को भोजन बनाने से रोका

 

- बच्चों के अभिभावक कर रहे हैं विरोध

 

उत्तर 24 परगना . उत्तर 24 परगना के गाइघाटा थाना इलाका स्थित आंगड़ाई मानवत विद्यापीठ में एड्स पीडि़ता को मिड- डे-मील बनाने से रोक दिया है। काफी समझाने पर भी अभिभावक नहीं माने। सूत्रों के अनुसार प्राइमरी स्कूल में मिड-डे-मील बनाने का दायित्व एक समूह को दिया गया था। एक फरवरी से इस समूह को स्कूल के बच्चों के लिए मिड-डे-मील के लिए भोजन तैयार करना था। अभिभावकों का आरोप है कि इस समूह की प्रमुख एड्स से पीडि़त है। उसके हाथों से तैयार भोजन वे लोग स्वीकार नहीं करेंगे। यदि फिर भी भोजन वहीं से आता है तो हमारे बच्चे भोजन नहीं करेंगे। गुरुवार सुबह बनगांव महकमा लिगल सर्विस, बनगांव अस्पताल के आइसीटीसी काउंसिलर व नेटवर्क फॉर पीपुल लिविंग डेथ एचआइवी एड्स संगठन के प्रतिनिधि स्कूल पहुंचे। अभिभावकों को समझाने की कोशिश की गई है, पर कोई खास फर्क नहीं पड़ा। इस बात से दुखी होकर पीडि़ता जगह-जगह अपील कर रही है। उसका कहना है कि यदि कानूनी तौर पर कोई मनाही नहीं है तो वह खाना क्यों नहीं बना सकती।
सूत्रों के अनुसार पीडि़ता के 2014 से एचआइवी है। पति और दो बेटियों को लेकर जीवन की झंझावत से जूझ रही है। वह इस तरह काम करने से रोकने पर अपनी आजीविका को लेकर दुखी है।

Vanita Jharkhandi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned