किसने दी बंगाल भाजपाध्यक्ष को निकाय चुनावों में एक भी सीट जीतने की चुनौती? जानिए यहां....

WEST BENGAL NEWS: रिसड़ा नगरपालिका चेयरमैन ने भाजपा सांसद घोष को दी खुली चुनौती, कहा, भाजपा का नहीं खुलेगा खाता, एक भी सीट पर जीत दर्ज कर घोष दिखाएं, निकाय चुनावों से पहले भाजपा और टीएमसी नेताओं के बीच जुबानी जंग

कोलकाता/हुगली. पश्चिम बंगाल में जैसे-जैसे निकाय चुनाव नजदीक आ रहे वैसे--वैसे राजनैतिक सरगर्मियां तेज हो रही हैं। इसको लेकर भाजपा और टीएमसी नेताओं के बीच जुबानी जंग भी छिड़ गई है। इसी क्रम में पश्चिम बंगाल के रिसड़ा नगरपालिका चेयरमैन विजय सागर मिश्रा ने भाजपा सांसद--सह--भाजपा प्रदेशाध्यक्ष दिलीप घोष को खुली चुनौती दी। मिश्रा ने भाजपा सांसद घोष को रिसड़ा निकाय चुनावों में एक भी सीट पर जीत दर्ज करने की चुनौती दे डाली और कहा कि रिसड़ा में भाजपा का खाता नहीं खुलेगा। मिश्रा ने कहा कि रिसड़ा निकाय चुनावों में एक भी सीट पर जीत दर्ज कर घोष दिखा दें। भाजपा के पश्चिम बंगाल अध्यक्ष दिलीप घोष रिसड़ा के भगवती बैंक्वेट हॉल में आने वाले निकाय चुनावों के पूर्व प्रस्तुति को लेकर मंगलवार को भाजपा नेतृत्व के साथ बैठक करने पहुंचे तो हॉल के बाहर रिसड़ा नगरपालिका चेयरमैन विजय सागर मिश्रा के नेतृत्व में सैकड़ों टीएमसी समर्थकों ने घोष के रिसड़ा आगमन का विरोध किया। मिश्रा के नेतृत्व में सैकड़ों टीएमसी समर्थकों ने घोष के रिसड़ा आगमन व एनआरसी, सीएए के खिलाफ रैली निकाली। रैली के जरिये मूल्य वृद्धि, गैस-पेट्रोल के बढ़ते दाम और 2 करोड़ बेरोजगारों को रोजगार देने के वादे का मुद्दा उठाया और केंद्र के खिलाफ जमके नारेबाजी की। मिश्रा ने केंद्र और घोष पर प्रहार करते हुए कहा कि केंद्र सरकार तेजी से गिर रही अर्थव्यवस्था और आर्थिक मुद्दों पर चुप्पी साधे हैं। उन्हें सिर्फ वोट बैंक की राजनीति धर्म के आड़ में करनी आती है। भाजपा निकाय चुनावों में अपनी जमीन पक्की करने के लिए राज्य को अशांत करने की फिराक में लगे हैं। उनके पास आर्थिक मुद्दों पर बात करने को कुछ नहीं ऐसे में वह बंगाल में अपनी जमीन तलाशने में लगें हैं। उन्होंने कहा कि यदि घोष रिसड़ा निकाय चुनावों में खुद भी उम्मदीवार बनके खड़े हो जाएं तो वह खुली चुनौती देने के लिए तैयार है। उन्होंने घोष को चुनौती देते हुए कहा कि भाजपा रिसड़ा में अपना खाता तक नहीं खोल सकेगी। उन्होंने कहा कि भाजपा ने रिसड़ावासियों के लिए क्या काम किया?उनके काम की एक भी गिनती वो गिना दें। उनके सांसद क्या कभी रिसड़ा वासियों की समस्या जानने आते हैं तो जबाब न में मिलेगा। सिर्फ धर्म की राजनीति करने से जीत हासिल नहीं होती। उन्होंने कहा कि रिसड़ा से भाजपा यदि एक भी सीट नहीं निकाल पाई तो घोष को सांसद पद से इस्तीफा देना होगा।
-

किसने दी बंगाल भाजपाध्यक्ष को निकाय चुनावों में एक भी सीट जीतने की चुनौती? जानिए यहां....

घोष ने कहा-माध्यमिक प्रश्न पत्र लीक होना बंगाल का फैशन


वहीं घोष ने मौजूदा राज्य सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि राज्य सरकार बंगाल में अपनी जमीन खो रही है। माध्यमिक प्रश्न पत्र लीक होना बंगाल का फैशन हो गया है। राज्य सरकार अपनी सुविधा अनुसार मतदान कराना चाहती है। प्रचार के लिए भी समय कम रहेगा। न्यूनतम 25 दिन का समय प्रचार के लिए निर्धारित किया जाना चाहिए। चुनाव आयोग से सभी दल को लेकर बैठक करे इसका निवेदन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि ट्रांसपोर्ट के पर राज्य सरकार का कोई नियंत्रण नहीं फलस्वरूप दुर्घटनाएं हो रही है। बांग्ला अभिनेता तापस पाल की मौत पर कहा कि असमय उनकी मृत्यु हुई इसके लिए खेद है। जिस पार्टी में दिवंगत तापस ताल्लुक रखते थे उससे उन्हें सिर्फ कष्टों के अलावा कुछ नहीं मिला। भाजपा श्रीरामपुर सांगठनिक नेतृत्व के तरफ से आयोजित बैठक में घोष के साथ, भाजपा नेता दिलीप सिंह, भास्कर भट्टाचार्य समेत अन्य मौजूद रहे।

Shishir Sharan Rahi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned