क्या गुवाहाटी बन पाएगा दक्षिण-पूर्व एशिया का व्यापारिक प्रवेश द्वार

देश के North-east का सब से बड़ा state Asam की पहचान वहां की विविध संस्कृतियां हैं। मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर पिछले दो महीने से आंदोलित असम सहित पूर्वोत्तर में रहने वाले विभिन्न समुदायों और धर्मों के लोगों में भाईचारे की भावना जाग्रत होने और जल्द ही इसे South-East Asia का व्यवसायिक Gate way बनने का दावा कर रहे हैं। उनके दावे में कितना दम है।



कैसे सोनोवाल कैसे कर रहे हैं असम सहित पूर्वोत्तर राज्य को देश के नये विकास इंजन
कोलकाता
देश के पूर्वोत्तर का सब से बड़ा राज्य असम की पहचान वहां की विविध संस्कृतियां हैं। मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) को लेकर पिछले दो महीने से आंदोलित असम सहित पूर्वोत्तर को देश के नये विकास इंजन, असम में रहने वाले विभिन्न समुदायों और धर्मों के लोगों में भाईचारे की भावना जाग्रत होने और जल्द ही इसे दक्षिण-पूर्व एशिया का व्यवसायिक प्रवेश द्वार बनने का दावा कर रहे हैं। उनके दावे में कितना दम है।
असम में रहने वाले विभिन्न समुदायों और धर्मों के लोगों में भाईचारे की भावना जाग्रत है और जल्द ही यह दक्षिण-पूर्व एशिया का व्यवसायिक प्रवेश द्वार बन कर उभरेगा। ये दावा असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने रविवार को किया। वे यहां साल्टलेक में 25 करोड़ रूपए की लागत से बने नए 10 मंजिला असम भवन के उद्घाटन समारोह में उपस्थित थे। इस मौके पर असम के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत विश्व शर्मा भी उपस्थित थे।
सोनोवाल ने कहा कि असम के साथ ही पूर्वोत्तर के राज्य जैव विविधता का केंद्र है। वर्ष 2014 में नरेंद्र मोदी के प्रधान मंत्री के रूप में कार्यभार संभालने से पहले देश के लोगों में यह धारणा थी कि असम और पूर्वोत्तर के राज्य मतलब आतंकवाद, बम विस्फोट, अपहरण, हत्या और अशांति है। प्रधानमंत्री मोदी ने असम सहित पूर्वोत्तर के राज्यों के बारे में लोगों के इस धारणा को बदलने में मदद की है।

उन्होंने कहा कि गुवाहाटी को दक्षिण-पूर्व एशिया का प्रवेश द्वार बनाने का लक्ष्य बनाया गया है। बांग्लादेश और भूटान ने पहले ही गुवाहाटी में उप-उच्चायोग स्थापित कर लिया है और इजऱाइल वाणिज्य दूतावास स्थापित कर रहा है। इस मौके पर राज्य के स्वास्थ्य मंत्री हिमंत विश्व शर्मा ने कहा कि असम में स्वास्थ्य, शिक्षा और सडक़ बुनियादी ढांचे का अभूतपूर्व विकास हो रहा है। पिछले चार वर्षों में राज्य में कई मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज स्थापित किए गए हैं और अल्ट्रा-आधुनिक सुविधाओं से कैंसर अस्पताल खोले गए हैं।

Manoj Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned