हस्तशिल्प के विकास के लिए काम जारी: ममता

हस्तशिल्प के विकास के लिए काम जारी: ममता

Ashutosh Kumar Singh | Publish: Dec, 08 2018 11:14:28 PM (IST) | Updated: Dec, 08 2018 11:14:29 PM (IST) Kolkata, Kolkata, West Bengal, India

- अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह की शुरुआत
- दावा, सरकार ने हस्तशिल्प के विकास के लिए काफी काम किया

कोलकाता

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शनिवार को कहा कि उनकी सरकार हस्तशिल्प के संरक्षण करने और बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध है। अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह के शुरुआत के अवसर पर शनिवार को ममता बनर्जी ने दावा किया कि उनकी सरकार हस्तशिल्प के विकास के लिए काफी काम किया है। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ने हस्तशिल्प उद्योग और कारीगरों को विकसित और स्थापित करने के लिए काफी काम किया है। उनकी सरकार की हमेशा प्राथमिकता रही है कि इस उद्योग को ना सिर्फ संरक्षण दिया जाए, बल्कि सरकारी मदद से अधिक से अधिक विकसित किया जाए। उल्लेखनीय है कि अखिल भारतीय हस्तशिल्प सप्ताह 08 दिसम्बर से 14 दिसम्बर तक पूरे भारत में मनाया जाता है।
पश्चिम बंगाल सरकार के वित्त व उद्योग विभाग ने दावा किया है कि बांकुड़ा जिले की 4000 साल से भी अधिक पुरानी डोकरा धातु शिल्प को संजोने में पश्चिम बंगाल सरकार जी जान से जुटी हुई है। राज्य सरकार से सक्रिय सहायता के साथ डोकरा के धातु शिल्प ने वापसी की है। बांग्ला का डोकवल बल्कि वैश्विक पटल पर भी धीरे-धीरे मशहूर होता जा रहा है। विभाग के अनुसार 2011 में राज्य की मुख्यमंत्री बनने के बाद ममता बनर्जी ने इस बात का खासतौर पर ख्याल रखा है कि राज्य की सांस्कृतिक धरोहर संरक्षित रहे। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम व वस्त्र (एमएसएमई और टी) विभाग और पर्यटन विभागों को विरासत में पदोन्नत किया गया है। पर्यटन विभाग विशेष कला और शिल्प वाले क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए विशेष प्रयास कर रहा है।

Ad Block is Banned