पढ़े आखिर क्यों जरूरी है खुद को जानना, खुद को पहचानना एक IAS के नजरिए से

ajay shrivastav

Publish: Sep, 17 2017 01:38:34 (IST)

Karanji, Kondagaon, Chhattisgarh, India
पढ़े आखिर क्यों जरूरी है खुद को जानना, खुद को पहचानना एक IAS के नजरिए से

बड़ा सोचने से ही बड़ा करने की हिम्मत मिलती है, जब तक सोचेगें नही तब तक होगा नहीं, हल्बी में बेटी बचाओं व शाराबबंदी पर सुनाये बच्चों ने गीत।

कोण्डागांव- जिले के दौरे पर आये संभागायुक्त दिलीप वासनीकर ने ग्राम करंजी के उच्चतर माध्यमिक शाला का निरीक्षण किया। यहां उन्होंने छात्रों को ऊंची सोच रखने की समझाईश देते हुए कहा कि सपने देखो और उसे पूरा करने मे जुट जाओ। विद्यार्थी जीवन का एक मात्र लक्ष्य पढ़ाई करना है फिर कोई ताकत आपको सफल होने से नहीं रोक सकती। उक्त शाला के प्राचार्य ने इस संबंध में बताया कि इस संस्थान में कुल 453 बच्चे अध्ययनरत है और शाला का वार्षिक परिणाम शत्-प्रतिशत रहा है। शाला में नवाचार के रुप में प्रारंभ किए गए संगीत कक्षा के छात्रों की कमिश्नर ने विशेष रुप से प्रशंसा की। इस दौरान शिक्षिका ने अवगत कराया कि कुल बारह छात्रों ने संगीत सीखने में रुचि दिखाई है और उन्हें संगीत के साथ-साथ विभिन्न वाद्यय यंत्र कैमियो, ढोलक, तुड़बुड़ी की जानकारी भी दी जा रही है।

छात्रों ने कमिश्नर को हल्बी में समझाया शराबबंदी -
छात्रों ने हल्बी भाषा में शराब बंदी एवं बेटी बचाओ एवं बेटी पढ़ाओं पर आधारित गीत गाकर अधिकारियों को सुनाया। जिसे सुनकर कमिश्नर एवं कलेक्टर ने छात्रों को प्रोत्साहित किया। 9वीं के क्लासरूम में पहुंचकर कमिश्नर ने बच्चों से बातचीत करते हुए उनसे पढ़ाई-लिखाई की जानकारी ली। उन्होंने बच्चों से सामान्य ज्ञान संबंधी प्रश्न पूछे और सही उत्तर दिए जाने पर बच्चों को शाबासी दी। इसके साथ ही उक्त शाला परिसर का अवलोकन करते हुए उन्होंने उसकी सीमाओं में सभी छात्रों को वृक्षारोपण करने को कहा। वहीं ग्राम पंचायत चिपावंड के बालक छात्रावास एवं कन्या आश्रम गम्हरी पहुंचकर उन्होंने छात्रों की अध्ययन संबंधी गतिविधियों की जानकारी लेते हुए उनके लक्ष्यों के बारे में जानना चाहा। इस पर अनेक छात्रों ने डॉक्टर, इंजीरियर, सेना आदि क्षेत्रों में जाने की बात कही।

पढ़ते रहे समाचार पत्र और सुने रेडियों-
कमिश्नर ने छात्रों को रेडियो एवं समाचार पत्रों के माध्यम से सामान्य ज्ञान बढ़ाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि रेडियों के माध्यम से हमें देश-विदेश में घट रही घटनाओं की जानकारी मिलती है और इनसे सामान्य ज्ञान भी बढ़ता है। अत: सभी छात्रावास एवं आश्रमों में रेडियो अनिवार्य रुप से उपलब्ध कराये जाने चाहिए। इस मौके पर उन्होंने छात्रावास की दीवारों पर लगाये गए देश की महान विभुतियों के योगदान एवं कृतित्व से सभी छात्रों को प्रेरणा लेने को भी कहा। इस मौके पर कलेक्टर समीर विश्नोई, सीईओं डॉं. संजय कन्नौजे, डिगेश पटेल सहित अन्य मौजूद थे।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned