script50 lakh rupees approved for deer protection, work not started | हिरणों के संरक्षण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत, दो साल बाद भी काम शुरु नहीं | Patrika News

हिरणों के संरक्षण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत, दो साल बाद भी काम शुरु नहीं

कोरबा. कोरबा जिले के पाली ब्लॉक में दमिया जंगल में हिरणों की संख्या दौ सौ से भी अधिक है। इनके संरक्षण के लिए खनिज न्यास मद से 50 लाख स्वीकृत किया गया था। इसके तहत हिरणों के संरक्षण, रेस्क्यू सेंटर सहित अन्य कार्य शुरु करना था।

कोरबा

Published: May 02, 2022 05:17:16 pm

करीब दो साल बीतने को है, अब तक किसी तरह का काम शुरु नहीं किया गया है। इधर पानी की तलाश में हिरण सड़कों पर शहर तक आ रहे हैं, जहां दुर्घटना का शिकार हो रहे हैं।जिले में मड़वारानी और दमिया जंंगल दो ऐसी जगह है जहां सबसे अधिक हिरण है। ये दोनों ही इलाके पूरी तरह से ड्राई इलाके हैं। पानी नहीं मिलने की वजह से हिरण सड़क किनारे या फिर गांव तक पहुंच जाते हैं यही उनकी मौत की वजह बन रही है। दोनों ही क्षेत्र जिले के दोनों वनमंडल कोरबा व कटघोरा के अर्न्तगत आते हैं। लेकिन किसी भी वनमंडल द्वारा चीतलों के रहवास को लेकर गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है।
हिरणों के संरक्षण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत, दो साल बाद भी काम शुरु नहीं
हिरणों के संरक्षण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत, दो साल बाद भी काम शुरु नहीं
हालांकि यह इलाका पहाड़ी है। और यहां पर पानी के लिए जितना वन्य जीवों के लिए परेशानी है उससे कहीं अधिक वहां के ग्रामीणों के लिए। लेकिन ग्रामीणों का मानना है कि वन विभाग को ऐसे क्षेत्र के जंगलों में दो से तीन जगह छोटे-छोटे पोखरी बना देना चाहिए। जिससे उनको गर्मी के दिनों में पर्याप्त पानी मिल सके। पानी के अभाव में हिरण गांव तक पहुंचते हैं तो कुत्तों के हमले से मारे जाते हैं या फिर दूसरे जंगल जाते समय सड़क हादसे का शिकार हो जाते हैं। पहले चरण में दमिया जंगल में संरक्षण के लिए काम शुरु होना था। वहां सफल होने पर मड़वारानी में काम शुरु किया जाता, लेकिन दमिया में ही अब तक काम शुरु नहीं हो सका है।

इधर जिले में घटते जंगल और खत्म होते जल स्त्रोत से वन्य प्राणी संकट में हैं। वन विभाग ने वन विकसित करने और वन्य प्राणियों के संरक्षण की आड़ में खर्च किए जा रहे हैं। इसके बावजूद न तो जंगल और न ही जल स्त्रोत सुरक्षित बचे हैं। इसकी कीमत वन्य प्राणियों को चुकानी पड़ रही है। वन्य प्राणी पानी के लिए गांव की ओर कूच करने लगे हैं, इससे वे मारे जा रहे हैं।

नहर में गिर रहे चीतल
मड़वारानी इलाके में प्राकृतिक जल स्त्रोत सूखने के कारण वन्य प्राणी प्यास बुझाने के लिए दायीं तट नहर में प्यास बुझाने आ रहे हैं। इस दौरान नहर में गिरने से कई बार हिरणों की मौत हो चुकी है। वनमंडल कोरबा के अधिकारी इसके लिए जांजगीर-चांपा वन मंडल को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं। जांजगीर-चांपा वन मंडल के बलौदा वन परिक्षेत्र में हिरणों की संख्या अधिक है, जो पानी की तलाश में कोरबा वन मंडल के अंतर्गत मड़वारानी जंगल को शरण स्थली बना लिया है। मड़वारानी इलाके की जमीन पत्थरीली होने से जल स्त्रोत का अभाव है इसलिए हिरण नहर पर आश्रित हैं।
सुरक्षा के इंतजाम नहीं
वन विभाग ने वन प्राणियों की सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए हैं, और न ही संरक्षण को लेकर गंभीर है। मड़वारानी इलाके में नए जल स्त्रोत विकसित करने का प्रयास भी नहीं किया जा रहा है। इससे वन प्राणी आबादी वाले इलाकों में प्रवेश कर रहे हैं। कुत्ते और शिकारी इन्हें शिकार बना रहे हैं।

औसतन सालभर में 10-12 हिरणों की होती है मौत
वन विभाग की मानें तो औसतन साल भर में इन दोनों ही जगहों में 10 से 12 हिरणों की मौत हो जाती है। सबसे अधिक कुत्तों के हमले से मौत हो रही है। पिछले दिनों दमिया जंगल से पाली नगर के तालाब पहुंचे हिरण की कुत्तों के हमले से मौत हो गई थी। इससे पहले मड़वारानी में भी हिरण की मौत कुत्तों के हमले की वजह से हो चुकी है। पिछले दो महीन में यह चौथी घटनाएं थी।

विशेषज्ञों से राय लिए बिना कहीं भी काम
वन विभाग बिना किसी विशेषज्ञ से राय लिए काम शुरु करने की तैयारी में है। वन्य प्राणियों को जंगल के भीतर रखने के लिए एक मात्र उपाय पर अफसर काम कर रहे हैं। पानी के लिए छोटा पोखरी निर्माण तक ही प्लानिंग रह गई है। जबकि हिरणों को एक बेहतर रहवासी एरिया की जरुरत है। इसके लिए किसी तरह का प्रयास नहीं किया जा रहा है।
हिरणों के संरक्षण के लिए 50 लाख रुपए स्वीकृत, दो साल बाद भी काम शुरु नहीं

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.