script500 workers in Balgi, barely 200 tonnes of coal mined in 24 hours | बलगी में 500 कर्मी, 24 घंटे में मुश्किल से 200 टन कोयला खनन, तीन साल में खदान को बंद करने की योजना | Patrika News

बलगी में 500 कर्मी, 24 घंटे में मुश्किल से 200 टन कोयला खनन, तीन साल में खदान को बंद करने की योजना

अंडरग्राउंड खदानों की माली हालत दिन प्रतिदिन खराब होती जा रही है। इन्हें लाभ में लाने की अभी तक की सारी कोशिश नाकाम हो चुकी है। इससे कोयला कंपनी का प्रबंधन परेशान है।

कोरबा

Updated: April 30, 2022 01:13:19 pm

कंपनी ने घाटे में चलने वाली खदानों को चरणबद्ध तरीके से बंद करने की योजना बनाई है। इसमें एसईसीएल की बलगी अंडरग्राउंड खदान भी शामिल है। यह खदान पिछले कई साल से घाटे में चल रही है। बताया जाता है कि कोरबा एरिया के अधीन संचालित इस खदान में लगभग 500 कोलकर्मी काम करते हैं। मेनपॉवर होने के बाद भी इस खदान से कोयला खनन लक्ष्य के अनुसार नहीं हो रहा है। स्थिति इतनी गंभीर है कि बड़ी मुश्किल से 24 घंटे में औसत 150 से 200 कोयला खनन किया जा रहा है।

बलगी में 500 कर्मी, 24 घंटे में मुश्किल से 200 टन कोयला खनन, तीन साल में खदान को बंद करने की योजना
बलगी में 500 कर्मी, 24 घंटे में मुश्किल से 200 टन कोयला खनन, तीन साल में खदान को बंद करने की योजना

इस कोयले की बिक्री से प्रबंधन को जो राशि प्राप्त हो रही है, उससे इस खदान में काम करने वाले कोल कर्मचारियों को वेतन देना भी मुश्किल हो गया है। यही कंपनी की परेशानी का कारण बन रही है। इसस परेशान एसईसीएल प्रबंधन ने बलगी खदान को बंद करने की योजना तैयार की है। कोल इंडिया मुख्यालय को एसईसीएल की ओर से भेजे गए रिपोर्ट में बताया गया है कि घाटे की वजह से तीन साल में बलगी खदान को बंद करने की योजना है।


बलगी में कोयले की मात्रा कम
बलगी में एक और दो नंबर खदान संचालित है। कोयले की कमी से एक खदान को बंद की जा चुकी है। जबकि दूसरी खदान में भी कोयला कम है। वर्तमान में जो कोयला खदान के भीतर मौजूद है, उसके खनन पर जाने वाला लागत भी अधिक है।

अहिरन नदी भी बाधा
बताया जाता है कि बलगी खदान के पास से अहिरन नदी गुजरती है। नदी तक कोयला खनन किया जा चुका है। नदी के दूसरी छोर पर कोयले का भंडार है। लेकिन सुरक्षागत कारण से इस छोर से कोयला खनन मुश्किल है।

दो से तीन साल में सेवानिवृत्त हो जाएंगे अधिकांश कमी
बलगी खदान में लगभग 500 कर्मचारी काम करते हैं। इसमें से अधिकांश लोगों की उम्र 57 वर्ष से अधिक है। दो से तीन साल में अधिकतर कर्मचारियों की आयु 60 वर्ष तक पूरी हो जाएगी। ये कर्मचारी सेवानिवृत्त हो जाएंगे। दो तीन साल बाद बलगी में नियमति कर्मचारियों की संख्या 100 से कम हो जाएगी। इसके बाद कंपनी खदान को बंद कर देगी।

कोरबा एरिया 250 करोड़ रुपए के घाटे में
एसईसीएल कोरबा एरिया के अधीन बलगी, सुराकछार, सिंघाली, बगदेवा रजागामार आदि अंडरग्राउंड खदानें ंसंचालित हैं। लेकिन कोई भी अंडर ग्राउंड खदान लाभ नहीं चल रही है। इससे खदानों का घाटा दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। अंडर ग्राउंड खदान के कारण वित्तीय वर्ष 2020- 2021 में कोरबा एरिया का घाटा लगभग 250 करोड़ रुपए था। जबकि 2019- 2020 में कोरबा एरिया का घाटा लगभग 400 करोड़ रुपए था। घाटे में कमी का कारण सरायपाली ओपेन कॉस्ट खदान का चालू होना है। कोयले की खनन और बिक्री के कारण एरिया को राजस्व प्राप्त हुआ था। इससे घाटे में थोड़ी कमी है। गौरगलब है कि कोरबा एरिया में मानिकपुर और सरायपाली खदानें ही लाभ में चल रही हैं। इन दोनों को छोड़कर सभी खदानें घाटें में हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

Drone Festival: दिल्ली के प्रगति मैदान में भारत के सबसे बड़े ड्रोन फेस्टीवल का उद्घाटन करेंगे पीएम मोदीपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातपहली बार हिंदी लेखिका को मिला अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार, एक मॉं की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीमहरौली में गैस पाइपलाइन में लीकेज के बाद जोरदार धमाका लगी आग, एक घायलमानसून ने अब तक नहीं दी दस्तक, हो सकती है देरखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.