नाबालिग ने शादी से किया इनकार तो 6 युवकों ने किया गैंगरेप फिर बाप - बेटी और पोती का किया मर्डर

- कड़ाई से हूई पूछताछ के बाद संदेहियों ने पहाड़ी कोरवा, उसकी नाबालिक लड़की और पोती की हत्या कर जंगल में फेंकना स्वीकार किया। संदेहियों को लेकर पुलिस घटना स्थल पर पहुंची। पहाड़ी कोरवा और उसकी पोती की लाश गड्ढे में पड़ी मिली।

By: Bhupesh Tripathi

Published: 13 Feb 2021, 03:22 PM IST

Korba, Korba, Chhattisgarh, India

कोरबा । छत्तीसगढ़ की संरक्षित जनजाति पहाड़ी कोरवा के एक ही परिवार के तीन सदस्यों के हत्या के आरोप में पुलिस ने छह युवकों को पकड़ा है। आरोपियों ने पूछताछ में नाबालिग लड़की से गैंगरेप करना स्वीकार किया है। लड़की उसके पिता और चार साल की भतीजी की हत्या करना स्वीकार किया है। पोस्टमाॅर्टम करने वाले डाॅक्टरों ने शाॅर्ट पीएम रिपोर्ट में गैंगरेप की पुष्टि की है।

इस सनसनी खेज घटना ने शासन प्रशासन को हिला कर रख दिया है। बुधवार को पुलिस ने मृत लड़की की मां का बयान दर्ज किया। बयान में कोरवा महिला ने बताया कि संतू उर्फ संतराम मंझवार ने उसकी 16 साल की नाबालिग लड़की के समक्ष विवाह का प्रस्ताव रखा था। संतू पहले से शादीशुदा है, उसकी पत्नी और दो बच्चे भी हैं। जाति और धर्म अलग होने के कारण कोरवा परिवार और उसकी लड़की ने शादी से इनकार कर दिया था। लड़की को संतू की नीयत खराब लग रही थी। उसने संतू की नीयत की जानकारी अपने माता-पिता को दी। इसके बाद पहाड़ी कोरवा परिवार ने संतू के घर काम छोडने का फैसला किया। पहाड़ी कोरवा अपनी पत्नी, बेटी और चार साल की पोती के साथ घर लौटने लगा। शुक्रवार की सुबह आठ बजे कोरवा अपनी पत्नी, बेटी और पोती के साथ जाने के लिए निकला। इस बीच सतरेंगा में रहने वाला उमाशंकर यादव नाम का युवक पहुंचा। उसने पहाड़ी कोरवा की पत्नी और पोती को अपनी बाइक में बैठा लिया। दोनों को उनके घर तक छोड़़ने की बात कही लेकिन रास्ते में छोड़कर लौट आया। कोरवा महिला ने देर शाम तक अपने पति, बेटी और पोती के आने का इंतजार किया लेकिन तीनों नहीं पहुंचे।

नाबालिग लड़की ने शादी से किया इनकार तो 6 युवकों ने किया गैंगरेप, बाद में पिता, बेटी और पोती का किया मर्डर

शनिवार से लेकर सोमवार तक महिला ने अपने गांव के आसपास स्थित गांव में जाकर पति, बेटी और पोती की पतासाजी की। कोई जानकारी नहीं मिली। मंगलवार की सुबह महिला अपने पुत्र के साथ लेमरू थाना पहुंचे। तीनों के लापता होने की सूचना पुलिस को दी। शुक्रवार की घटना से थानेदार को अवगत कराया। पुलिस ने महिला और उसके पुत्र को अपनी गाड़ी में बैठा लिया। मामले की जांच करने सतरेंगा संतराम के घर पहुंची। संतराम ने पहाड़ी कोरवा और उसके तीन सदस्यों की जानकारी होने से इनकार किया। संतू ने सतरेंगा की बस्ती में रहने वाले एक अन्य व्यक्ति का नाम पुलिस को बताया। पुलिस वहां भी पहंुची। पूछताछ के लिए संदिग्धों को उठाकर लेमरू थाना ले गई।

कड़ाई से हूई पूछताछ के बाद संदेहियों ने पहाड़ी कोरवा, उसकी नाबालिक लड़की और पोती की हत्या कर जंगल में फेंकना स्वीकार किया। संदेहियों को लेकर पुलिस घटना स्थल पर पहुंची। पहाड़ी कोरवा और उसकी पोती की लाश गड्ढे में पड़ी मिली। 16 साल की लड़की की लाश वहां से कुछ मीटर की दूरी पर पड़ी थी उसे पत्थर से ढंका गया था। पुलिस ने शव से पत्थर को हटाया लड़की की सांसे चल रही थी। लड़की खुन से लथपथ थी। उसे जिला अस्पताल के लिए भेजा गया लेकिन रास्ते में लड़की ने दम तोड़ दिया। पुलिस ने हत्याकांड के आरोप में छह युवकों को पकड़ा है उनसे लेमरू थाना में पूछताछ की जा रही है। गुरूवार को पुलिस इस मामले की खुलासा करने की बात कह रही है।

नौकरानी बनाकर किया शोषण
पहाड़ी कोरवा महिला ने पुलिस को बताया है कि एक साल पहले उसने पति और बेटी के साथ मिलकर संतू के घर काम करना स्वीकार किया। बदले में संतू ने आठ हजार रूपए सालाना तथा महीने दस किलो चावल देने का वादा किया था। संतू के घर पहाड़ी कोरवा और उसका परिवार गाय-भैंस को चराता था। बेटी पर संतू की बुरी नीयत को भांपकर कोरवा परिवार ने काम छोड़ दिया। तब संतू ने 600 रूपए परिवार को दिया। इस पहाड़ी कोरवा ने आपत्ति की इस पर दोनो के बीच विवाद भी हुआ था।

कोरबा से राजेश कुमार की रिपोर्ट

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned