script8 thousand trees will be cut for four lane from Urga to Bilasuper | उरगा से बिलासुपर तक फोरलेन के लिए कटेंगे ८ हजार पेड़, भरपाई के लिए एनएच को लगाने होंगे ९८ हजार पौधे | Patrika News

उरगा से बिलासुपर तक फोरलेन के लिए कटेंगे ८ हजार पेड़, भरपाई के लिए एनएच को लगाने होंगे ९८ हजार पौधे

कोरबा. उरगा से बिलासपुर तक बनने वाली फोरलेन सड़क के लिए करीब आठ हजार पेड़ों की कटाई होगी। बहुत जल्द इस सड़क का काम शुरु होना है। इसका ज्यादातर हिस्सा जांजगीर-चांपा जिले में आएगा। हर एक पेड़ काटने के ऐवज में एनएच को 12 पेड़ लगाने के शर्त पर अनुमति मिली है।

कोरबा

Published: April 30, 2022 11:50:00 am

गौरतलब है कि भारतमाला परियोजना के तहत बिलासपुर से उरगा, उरगा से हाटी-धर्मजयगढ़ होते हुए कुनकुरी तक सड़क का काम बहुत जल्द शुरु होने वाला है। उरगा से बिलासपुर तक की सड़क को पहले फेस में लिया गया था। अब तक काम शुरु हो जाना था, लेकिन कोविड की वजह से टेंडर प्रक्रिया और जमीन अधिग्रहण में विलंब की वजह से अब जाकर शुरु किया जा रहा है। सबसे पहले पेड़ों की कटाई शुरु होनी है। इस नई सड़क के लिए जो रुट तय किया गया है उसके दायरे में 8932 पेड़ आ रहे हैं। जिनकी कटाई होनी है। पेड़ोंं की कटाई की अनुमति वन विभाग से मिल चुकी है। इसके लिए वन विभाग ने प्रति पेड़ के पीछे 12 पेड़ लगाने की शर्त रखी है। एनएचए को इसके लिए सात करोड़ राशि वन मंडल जांजगीर-चांपा को जमा करना है। अब तक राशि जमा नहीं करने की वजह से पेड़ों की कटाई शुरु नहीं हो सकी थी।
फोरलेन के लिए 29 हजार पेड़ों को उजाड़ने का काम शुरु, बिलासपुर से कटघोरा तक कटाई में तेजी
फोरलेन के लिए 29 हजार पेड़ों को उजाड़ने का काम शुरु, बिलासपुर से कटघोरा तक कटाई में तेजी
तीन जिले के आठ तहसील से होकर गुजरेगी एनएच
इस सड़क के बन जाने से तीन जिले के लोगों को सीधे तौर पर फायदा होगा। तीन जिले के सात तहसील क्षेत्र से होकर एनएच गुजरेगी। इसमें बिलासपुर, मस्तुरी, अकलतरा, बलौदा, करतला और कोरबा तहसील क्षेत्र से गुजरेगी। करीब70.2 किमी इसकी लंबाई होगी।
47 हेक्टेयर वन क्षेत्र हो रहा प्रभावित
पहले फेस के तहत बनने वाले इस सड़क से 47 हेक्टेयर वन क्षेत्र प्रभावित हो रहा है। सबसे अधिक जांजगीर-चांपा जिले के वन इससे प्रभावित होंगे। हालांकि वन्यजीव वाले क्षेत्रों के10 किमी वाले दायरे से यह पूरी तरह से अलग बन रहा है। ताकि जंगली जानवरोंं को इससे नुकसान ना हो।
पहली बार पर्यावरण निगरानी पर दो करोड़ होगा खर्च
इस एनएचए के बनने से ट्रेफिक डेंसिटी में भी इजाफा होगा। शोर के साथ-साथ दूसरे प्रदूषण भी बढ़ेंगे। इसके लिए शमन के उपाय किए जाएंग। निगरानी एवं शमन के उपाय प्रदूषण के नियंत्रण के रुप में काम किया जाएगा। जिसपर करीब दो करोड़ खर्च आएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

नोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेरपुलिस में मामला दर्ज, नाराज कांग्रेस विधायक का इस्तीफा, जानें क्या है पूरा मामलाडिकॉक-राहुल ने IPL में रचा इतिहास, तोड़ डाला वार्नर और बेयरेस्टो का 4 साल पुराना रिकॉर्डDelhi LG Resigned: दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिया इस्तीफा, निजी कारणों का दिया हवालाIndia-China Tension: पैंगोंग झील पर बॉर्डर के पास दूसरा पुल बना रहा चीन, सैटेलाइट इमेज से खुलासाHeavy rain in bangalore: तेज बारिश से दो मजदूरों की मौत, मुख्यमंत्री ने की मुआवजे की घोषणाज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.