पढि़ए खबर, किस तरह से 11 साल से दिल्ली में छिपकर लोगों को ठग रहा था नाइजीरियन युवक

- फेसबुक मेें रिटायर्ड महिला प्रोफेसर को जाल में फंसा कर ठगे थे 21 लाख, अन्य महिलाओं को भी ठगा

By: Shiv Singh

Published: 13 Mar 2018, 09:26 PM IST

कोरबा . नाइजीरियन युवक पिछले 11 साल से दिल्ली में अवैध रूप से छिपकर लोगों को ठगने का काम कर रहा था। फेसबुक में महिलाओं को अपने जाल में फंसाकर पहले तो दोस्ती कर लेता था। फिर कई किश्तों में लाखों रूपए जमा करवा लेता था। कोरबा की रिटायर्ड महिला प्रोफेसर के साथ हुई ठगी के मामले में कोरबा पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। पहली बार किसी मामले में विदेशी आरोपी को गिरफ्तार कर कोरबा लाया गया।

एडिशनल एसपी कीर्तन राठौर ने बताया कि एमपीनगर निवासी रिटायर्ड प्रोफेसर मंजुला पांडे की दोस्ती फेसबुक पर एक चाल्र्स नाम के युवक से हुई थी। इस विदेशी युवक ने प्रोफेसर को गिफ्ट देना चाहा इस पर प्रोफेसर ने अस्वीकार कर दिया परन्तु उसके काफी जिद करने पर महिला ने अपना पता उसे दे दिया। 30 जुलाई को कुरियर के द्वारा पार्सल भेजा जिसे एयरपोर्ट पर डेल्टा कुरियर को लेना था।

Read More : सर्वे भी हुआ, स्वीकृति भी मिली पर अंडरब्रिज का काम अब तक फाइलों से नहीं बढ़ सकी आगे, यहां हर आधे घंटे में लगता है जाम

31 जुलाई 2017 को युवक द्वारा महिला को सूचित किया गया कि पार्सल की सुरक्षा निधि 35000 देना है चूंकि युवक ने बताया था तो दूसरे दिन उनके द्वारा भेजे गए पैसे को दे देगा। बाद में सामान नहीं भेजने पर बताया गया कि पार्सल में फ ॅारेन केंरंसी है जिसका पेनाल्टी लगेगा। उसके कहने पर महिला ने फिर से 91500 रूपए दे दिए। फिर जब महिला ने और पैसे देने से मना किया गया तो युवक ने दबाव डाला कि उसके पैसे सरकारी खजाने में चले जाएंगे।

 

इस तरह 21 लाख रूपए महिला से धोखे से खाते में जमा करवा लिया। बाद में ना सामान मिला न ही पैसे। यह मामला पिछले साल जुलाई व अगस्त केे बीच का है। इस पेचीदे मामले में आरोपी को पकडऩे के लिए पुलिस को काफी मेहनत करनी पड़ी। फेसबुक एकाउंट, बैंक खातों व फोन नंबर के आधार पर आरोपी तक पुलिस पहुंच सकी। पुलिस ने दिल्ली से लोगस नाइजीरिया निवासी नान्ना वितुस ईवेन्ना को गिरफ्तार कर कोरबा लाया गया।

गिरोह बनाकर फेसबुक में लोगों को लेते थे झांसे में
एएसपी कीर्तन राठौर ने बताया कि आरोपी २००७ से दिल्ली में अवैध रूप से रहकर अपना गिरोह बनाकर लोगों को फेसबुक में दोस्ती कर झांसे में लेते थे। उसके बाद विदेशी सामान भेजने व कस्टम, एयरपोर्ट, क्राइम ब्रांच, फर्जी अधिकारी बनकर कॉल कर लाखों रूपए की ठगी करता था। कोरबा की रिटायर्ड महिला प्रोफेसर से २१ लाख रूपए की ठगी करने के बाद आरोपी ने मंहगे होटलों में घूमने, खानपान और अन्य ऐशो-आराम पर खर्च कर दिया।

एसपी ने टीम को नगद इनाम से किया पुरस्कृत
इस बड़े मामले में आरोपी युवक को पकडऩे के लिए कोरबा पुलिस ने काफी मेहनत की। एसपी मयंक श्रीवास्तव के मार्गदर्शन में कोतवाली निरीक्षक यदुमणि सिदार, उपनिरीक्षक राजीव श्रीवास्तव, कुलदीप तिवारी, गोपाल यादव, साइबर सेल प्रभारी दुर्गेश राठौर, विकेश्वर प्रताप सहित अन्य को बेहतर कार्य के लिए एसपी ने नगद इनाम से पुरस्कृत किया गया।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned