पिछड़ा वर्ग का बंद बेअसर, पदाधिकारी बोले संदेश देना था मकसद

सामान्य दिनों की तरह सबकुछ सामान्य रहा। पिछड़ा वर्ग सामाजिक समिति ने 13 नवंबर को प्रदेश बंद का आह्वान किया था।

कोरबा. जनसंख्या के आधार पर अन्य पिछड़ा वर्ग को सरकारी नौकरियों में आरक्षण की मांग को लेकर आयोजित प्रदेश बंद कोरबा में बेअसर रहा। सामान्य दिनों की तरह सबकुछ सामान्य रहा। पिछड़ा वर्ग सामाजिक समिति ने 13 नवंबर को प्रदेश बंद का आह्वान किया था। बुधवार को समिति के सदस्य शहर बंद कराने निकले। शहर बंद का आह्वान किया, लेकिन इसका कोई असर नहीं पड़ा।

अंबिका खदान पर 18 लोगों की आपत्ति सरकार को भेजी गई, केन्द्र सरकार लेगी अंतिम निर्णय...

समिति के पदाधिकारियों ने मांगों के समर्थन में जिला प्रशासन को एक ज्ञापन सौंपा। इधर, समिति की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि पिछड़ा वर्ग की आबादी का 52 फीसदी है। वर्ग को जनसंख्या के आधार पर आरक्षण दिया जाना चाहिए। आंदोलन का मकसद पिछड़ा वर्ग को प्राप्त संवैधानिक अधिकारी की मांग को लेकर जागरुक और संगठित करना करना था। समिति ने कहा कि आंदोलन अपने मकसद में कामयाब रहा है। आंदोलन का मकसद व्यापार को बंद करना नहीं बल्कि लोगों को जागरुक करना था। आंदोलन के दौरान गिरधारी लाल साहू, डॉ. जयपाल सिंह, एचआर नेताम सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Vasudev Yadav
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned