लकड़ी काट रहे थे ग्रामीण, हाथियों को देख कर कुल्हाड़ी छोड़ भागे, गड्ढे में गिरने से एक ग्रामीण घायल

- बालको रेंज के रूगबहरी के जंगल में शनिवार शाम की घटना, घायल जिला अस्पताल में भर्ती

By: Vasudev Yadav

Published: 12 Nov 2017, 04:35 PM IST

कोरबा . परिवार संग लकड़ी काट रहे ग्रामीण की नजर अचानक हाथियों पर पड़ी। सभी भागने लगे। इसी बीच एक ४५ वर्षीय ग्रामीण छत्रपाल भागते समय गड्ढे पर जा गिरा। परिजनों ने उसे गड्ढे से बाहर निकाल कर वन विभाग को सूचना दी। वन विभाग ने 108 के माध्यम से घायल ग्रामीण को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

हाथियों का दल कोरबा रेंज से होते हुए बालको के रूगबहरी के आसपास पहुंच गए हैं। पिछले दो तीन दिनों से इस रेंज के कई गांव के ग्रामीणों में दहशत व्याप्त है। रविवार को रूगबहरी में रहने वाले छत्रपाल निर्मलकर 45 वर्ष अपने ही परिवार के कुछ सदस्यों के साथ जंगल में लकड़ी लेने गया हुआ था। सूखी लकडिय़ों को एकटठ कर उसे काट रहा था। अन्य लोग उसी के आसपास ही थे। इसी बीच छत्रपाल की नजर हाथियों के झूंड पर पड़ गई।

हाथियों को देखते हुए वह हड़बड़ा गया और सभी को आवाज देकर भागने को कहा। सभी भागने लगे। इसी बीच छत्रपाल दौड़ते-दौड़ते एक गड्ढे में जा गिरा। गड्ढे में गिरने से ग्रामीण घायल हो गया। परिजनों ने वन विभाग को सूचना दी गई। ग्रामीण को पास के गांव नवागांव लेकर पहुंचे। जहां से 108 के माध्यम से ग्रामीण को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। ग्रामीण की स्थिति खतरे से बाहर बताई गई है।

वन विभाग की सलाह जंगल की ओर ना जाएं
इस रेंज में लगभग 35 से 40 हाथियों का झुंड विचरण कर रहा है। रूगबहरी में सुखद पहलू रहा कि हाथियों की नजर ग्र्रामीण पर नहीं पड़ी, वरना जनहानि हो सकती थी। वन विभाग द्वारा ग्रामीणों को सलाह दी जा रही है कि अभी इस क्षेत्र में जंगल की ओर बिल्कुल भी ना जाएं।

डर से अधपका फसल काट रहे किसान
वनमंडल के करतला एवं कुदमुरा वनपरिक्षेत्र के गांवों में हाथियों की दहशत इतनी है कि किसान पकने के पहले अधपकी धान की फसल को काटने के लिए मजबूर हो रहे हैं। अभी भी हाथियों का झुण्ड से अलग दंतैल हाथी तौलीपाली, बैगामार, कुदमुरा कलगामार के जंगल में विचरण कर रहा है। वन अमला हाथियों को गांव में घुसने से रोकने के लिए हुल्ला पार्टी के साथ सक्रिय है। करतला और कुदमुरा क्षेत्र के ग्रामीण सैकड़ों एकड़ में खरीब धान की फसल पैदा करते हैं। हाथी धान की फसल को खा जाते हैं या रौंद कर नुकसान पहुंचाते हैं। इसी कारण से पकने से पहले ही ग्रामीण फसल को काट रहे हैं।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned