लक्ष्य हासिल करने एसईसीएल को रोज करना होगा इतना उत्पादन, कंपनी के पास इतने दिन का समय शेष, पढि़ए खबर...

- कोल इंडिया ने चालू वित्तीय वर्ष में १६७ मिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य एसईसीएल को दिया है।

By: Vasudev Yadav

Published: 03 Mar 2019, 09:41 PM IST

कोरबा. कोल इंडिया की अनुषांगिक कंपनी एसईसीएल को चालू वित्तीय वर्ष में उत्पादन लक्ष्य हासिल करने के लिए हर रोज लगभग एक मिलियन टन कोयले का उत्पादन करना होगा। लक्ष्य को पूरा करने के लिए कंपनी के पास २७ दिन का समय है।

कोल इंडिया ने चालू वित्तीय वर्ष में १६७ मिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य एसईसीएल को दिया है। पिछले साल मार्च से इस साल फरवरी तक एसईसीएल ने अलग अलग खदानों से १३८.४५ मिलियन टन कोयले का खनन किया है। यह निर्धारित लक्ष्य से २८.५५ मिलियन टन कम है। लक्ष्य तक पहुंचने के लिए कंपनी के पास २७ दिन का समय बचा है। एसईसीएल को लक्ष्य तक पहुंचाने में मेगा प्रोजेक्ट कुसमुंडा, गेवरा और दीपका का महत्वपूर्ण योगदान है। तीनों मेगा प्रोजेक्ट से ९५ मिलियन टन से अधिक कोयला उत्पादन होना है।

Read More : चुनाव आयोग के गाइड लाइन के बाद पुलिस विभाग में फिर हुआ तबादला, 27 कर्मी इधर से उधर
100 मिलियन टन का आंकड़ा पार
एसईसीएल ने पांच दिसबंर तक १०० मिलियन कोयले का उत्पादन किया था। इसमें खुली खदानों से ९० मिलियन टन उत्पादन हुआ था। लक्ष्य की ओर बढ़ते हुए कंपनी ने २० फरवरी को एक दिन में पांच लाख २० हजार टन कोयला खनन किया था। एक दिन में पांच लाख टन कोयले का डिस्पेच भी किया था, जो अभीतक का रिकार्ड है।

कोल इंडिया ने किया 527 एमटी उत्पादन
चालू वित्तीय वर्ष में अनुषांगिक कंपनियों की बदौलत कोल इंडिया ने ५२७. ७० मिलियन टन कोयले का उत्पादन किया है। इसमें सबसे अधिक एसईसीएल का योगदान है। १२६ मिलियन टन कोयला उत्पादन के साथ एमसीएल दूसरे स्थान पर है। ईसीएल ने ९२ और सीसीएल ने ५५ मिलियन टन उत्पादन किया है।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned