गेवरा कोल माइंस का प्रबंधन नहीं दे रहा अपने कर्मचारियों की मांगों पर ध्यान, जानिए क्या है इनकी परेशानी

Rajkumar Shah

Publish: Jan, 13 2018 07:07:56 PM (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
गेवरा कोल माइंस का प्रबंधन नहीं दे रहा अपने कर्मचारियों की मांगों पर ध्यान, जानिए क्या है इनकी परेशानी

कोयलांचल के नाम से मशहूर कोरबा की गेवरा खदान के कर्मचारी कई तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं। यह समस्याएं उनके आवागमन व आवास को लेकर है।

कोरबा . कोयलांचल के नाम से मशहूर कोरबा की गेवरा खदान के कर्मचारी कई तरह की समस्याओं से जूझ रहे हैं। यह समस्याएं उनके आवागमन व आवास को लेकर है। एक तरफ जहां रास्ता जर्जर हो चुका है तो दूसरी तरफ उनकी आवासीय कालोनियों में कराए जा रहे मरम्मत कार्य गुणवत्ता युक्त नहीं है पर प्रबंधन इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है।

कोयला मजदूर सभा के केन्द्रीय अध्यक्ष रेशम लाल यादव ने महाप्रबंधक गेवरा को पत्र लिख कर शक्ति नगर बेरियर से कुसमुंडा-कोरबा जाने वाली जर्जर सड़क को ठीक कराने की मांग की है।

उल्लेखनीय है कि एसईसीएल गेवरा क्षेत्र में शक्ति नगर बेरियर से कुसमुंडा -कोरबा जाने वाली बाइपास सड़क जर्जर स्थिति में है। कई जगह तो ऐसी स्थिति है कि कार-मोटर साइकिल निकलना मुश्किल हो रहा है। रोड की स्थिति खराब होने से एक्सीडेंट भी हो रहे हैं।

कर्मचारी नेता का कहना है कि गेवरा क्षेत्र के कर्मचारियों को मार्केटिंग करने के लिए कोरबा जाना पड़ता है। बड़ी संख्या में निजी क्षेत्र के कर्मचारी भी आवागमन करते रहते हैं और सिटी बस भी इस रोड पर चलती है लेकिन मार्ग जर्जर होने के कारण हादसों की संख्या बढ़ रही है।

महाप्रबंधक से एसईसीएल गेवरा क्षेत्र (शक्ति नगर) से कुसमुंडा -कोरबा जाने वाले बायपास में स्ट्रीट लाइट लगाने की भी मांग की है। इस पत्र की एक प्रतिलिपि स्टाफ आफीसर सिविल गेवरा क्षेत्र को भी भेजी गयी है।


आवासों की मरम्मत करने की मांग- वेलफेयर कमेटी मेंबर संतोष यादव ने आवासीय परिसर दीपका कालोनी पुराना एमडी की रोड की जर्जर स्थिति को भी ठीक कराने के लिए महाप्रबंधक गेवरा को पत्र भेजा था लेकिन स्थिति अभी भी सुधरी नहीं है। पत्र में कहा गया है

कि आवासीय परिसर में सफाई व्यवस्था भी पूरी तरह से खराब हो चुकी है।वेलफेयर कमेटी द्वारा कालोनी का नियमित निरीक्षण नहीं कराया जा रहा है। डिसेंट हाउस का काम भी जो पुराना एमडी एवं माइनर्स क्वार्टर में चल रहा है, उसकी गति बहुत धीमी है और

यह काम पेटी ठेकेदार कर रहा है जबकि असली ठेकेदार कोई और है। आवासीय परिसर में रहने वाले कर्मचारी डिसेंट हाउस के कार्यों से संतुष्ट नहीं है। कर्मचारी नेताओं ने वेलफेयर कमेटी बुलाने का भी सुझाव दिया जा चुका है लेकिन प्रबंधन किसी प्रकार की सुनवाई नहीं कर रहा है। कर्मचारियों ने दीपका कालोनी के पुराना एमडी 297 से एमडी 400 तक की रोड एवं नाली बनवाने की भी मांग की है।


एचएमएस गेवरा प्रोजेक्ट के सचिव एससी मंसूरी ने बताया कि एचएमएस के कोयला मजदूर सभा के केन्द्रीय अध्यक्ष रेशम लाल यादव इसके पहले भी इन मुद्दों पर प्रबंधन का ध्यान आकृष्ट करा चुके हैं पर प्रबंधन कर्मचारी हितों से जुड़ी इन मांगों पर ध्यान नहीं दे रहा है।

Ad Block is Banned