शिक्षकों को कम्प्यूटर ज्ञान देने तैयार किया जा रहा सिलेबस, परिणाम अच्छा रहा तो राज्य में होगा लागू

Shiv Singh

Publish: Sep, 16 2017 08:07:06 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
शिक्षकों को कम्प्यूटर ज्ञान देने तैयार किया जा रहा सिलेबस, परिणाम अच्छा रहा तो राज्य में होगा लागू

- डाईट कोरबा में पांच दिनो तक चला प्रशिक्षण, 90 मिडिल स्कूल के शिक्षक हुए शामिल

कोरबा. सूचना क्रांति के युग में कम्प्यूटर का ज्ञान रखना आवश्यक्ता से बढ़कर अब जरूरत बन चुका है। ऐसे में जिन्हें इसका ज्ञान नहीं है, कई बार वह स्वयं को उपेक्षित भी महसूस करते हैं। शिक्षा के क्षेत्र मे नई तकनीक से काफी बदलाव आया है, लेकिन खासतौर से सरकारी स्कूल के काफी तादात में ऐसे शिक्षक मौजूद हैं, जो अब भी कम्प्यूटर से अनभिज्ञ हैं। ऐसे शिक्षकों के लिए ही डाईट कोरबा में ५ दिवस का प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान(डाईट) कोरबा में मिडिल स्कूल के शिक्षकों का पांच दिवसीय कम्प्यूटर प्रशिक्षण कार्यक्रम दो चरणों में 06 सितम्बर से 15 सितम्बर तक चला। प्रशिक्षण के दोनों चरणों में कुल 90 शिक्षकों ने प्रशिक्षण प्राप्त किया।

जिले के शिक्षकों ने ही बनाया पाठ्यक्रम- इस प्रशिक्षण की खास बात यह रही कि इसके आयोजन से पूर्व जिले के हीमास्टर ट्रेनरों ने तीन दिवसीय कार्यशाला में एक ऐसा व्यवहारिक पाठ्यक्रम तैयार किया जो आज की जरूरत है। शालेय स्तर पर वर्तमान में किए जाने वाले ऑफलाइन ऑफिस कार्य तथा समय-समय पर ऑनलाइन डाटा एण्ट्री के कार्यों व स्कूल में उपलब्ध कम्प्यूटर से छात्रों को सिखाने लिए क्या आवश्यक हो इस पर आधारित कार्यशाला में सभी मास्टर ट्रेनर अरुण कुमार साहू, अनिल कुमार शर्मा, सुरेन्द्र दास, विवेक कुमार सोनी और धनेश्वरी भारती ने शिक्षकों के लिए उपयोगी पाठ्यक्रम तैयार किया।

अच्छा प्रतिसाद मिला तो ब्लॉक के साथ ही राज्य में किया जाएगा लागू- प्रशिक्षण आयोजन करने की एसईसीआरटी रायपुर से ली गई थी। इसकी परिकल्पना से उच्चाधिकारियों को अवगत कराया गया था, जिसके लिए प्रशिक्षु शिक्षकों के सामने प्रोजेक्टर से दिखाने के लिए स्लाईड शो तैयार किए गए। प्री-टेस्ट भी लिया गया।
इसके बाद प्रशिक्षण में कम्प्यूटर फंडामेंटल, इनपुट आऊटपुट डिवाइस, सीपीयु को समक्ष खोलकर उसके अंदर के हिस्सों को शिक्षकों ने समझा। एमएस वर्ड, एक्सेल, पॉवरपांईंट, एक्सेस को बारी-बारी से प्राजेक्टर में देखकर थ्योरी और डाईट के कम्प्यूटर कक्ष में स्वयं कम्प्यूटर में सभी शिक्षकों ने करके देखा। इन्टरनेट की कक्षा में ईमेल आईडी बनाना, ईमेल भेजना, आनलाईन कार्य कैसे करें, फाईल अपलोड करना, रिमोट कम्प्यूटिंग के विषय में शिक्षकों को बताया गया। इसी तरह की अन्य तकनीकी जानकारी का प्रशिक्षण दिया गया। प्रशिक्षका यह प्रयोग यदि जिले मे सफल रहा और इसका अच्छा प्रतिसाद मिला तो ब्लॉक स्तर के साथ ही पूरे राज्य मे इसे लागू कर प्रशिक्षण दिया जाएगा।

शिक्षकों को बेसिक कम्प्यूटर कोर्स का प्रशिक्षण दिया गया है। जोकि आज के समय की मांग है। एसईसीआरटी से भी काफी सहयोग मिला। इसका पूरा सिलेबस जिला स्तर पर ही तैयार किया गया है। अच्छा प्रतिसाद मिला तो इसे राज्य मे भी लागू किया जा सकता है।
अरूण कुमार, मास्टर ट्रेनर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned