scriptFlying ash threatens the switch yard, excavated from Poklane near the | उड़ते राखड़ से स्वीच यार्ड को खतरा, हाइटेंशन टॉवर के पास ही पोकलेन से खोदाई | Patrika News

उड़ते राखड़ से स्वीच यार्ड को खतरा, हाइटेंशन टॉवर के पास ही पोकलेन से खोदाई

कोरबा. हाल ही में भारतमाला परियोजना के तहत उरगा से बिलासपुर और कोरबा से चांपा मार्ग का काम शुरु हुआ है। एनएचएआई की मनमानी की वजह से पावर ग्रिड की चिंता बढ़ गई है। दरअसल स्वीच यार्ड के समीप ही राखड़ पाटा जा रहा है तो दूसरी हाइटेंशन टॉवर के समीप ही पोकलेन लगाकर खोदाई की जा रही है।

कोरबा

Updated: June 07, 2022 11:49:15 am

भैंसमा में पावर ग्रिड के स्टेशन के पीछे से ही हाइवे गुजर रही है। पावर ग्रिड के स्टेशन के स्वीच यार्ड से निर्माणाधीन हाइवे की दूरी अधिक नहीं है। सड़क निर्माण के लिए बीते कुछ दिनों से अधिक मात्रा में राखड़ पाटा जा रहा है। राखड़ पाटने के बाद उसके ऊपर मिट्टी फिलिंग जल्द नहीं कराया जा रहा है। इस वजह से हवा चलते ही राखड़ उड़कर स्वीच यार्ड तक पहुंच रही है। स्वीच यार्ड में महंगे उपकरण लगे हुए हैं। इसे डस्ट से बचाना जरुरी होता है। राखड़ की वजह से उपकरण शार्ट हो सकते हैं।
 भारतमाला परियोजना ने पावर ग्रिड की बढ़ाई परेशानी
भारतमाला परियोजना ने पावर ग्रिड की बढ़ाई परेशानी

इसी तरह तरदा के पास ठेकेदार ने सड़क निर्माण के लिए काम शुरु किया है। जिस जगह पर हाइवे के लिए पोकलेन की खोदाई की जा रही है। वहां पर हाइटेंशन लाइन गई हुई है। हाइटेंशन टॉवर से लगी जमीन की धड़ल्ले से खोदाई की जा रही है। नियमों केे मुताबिक टॉवर से ४० मीटर के आसपास खोदाई नहीं की जा सकती। जिस तरह से मिट्टी खोदाकर निकाला जा रहा है उससे बारिश में परेशानी बढ़ सकती है। बारिश की वजह से मिट्टी का कटाव अधिक होता है इससे पकड़ ढीली हो सकती है।
कई प्रदेशों को जाती है बिजली
भैसमा स्थित पॉवर ग्रिड देश के अलग-अलग हिस्सों से सीधे तौर पर जुड़ी हुई है। कई प्रदेशों को बिजली ग्रिड के माध्यम से भेजी जाती है। ग्रिड के रखरखाव को लेकर अधिकारी बेहद गंभीर है। पावर ग्रिड ने इस संबंध में एनएचएआई को पत्र लिखा है। साथ ही कहा कि पूरी तरह से सावधानी बरती जाए ताकि लाइन किसी तरह प्रभावित न हो।
गार्डन के काम में इतनी मनमानी, लोगोंं में आक्रोश
शारदाविहार सामुदायिक भवन के सामने ही तालाब का निर्माण निगम ने शुरु किया गया था। जिस ठेेकेदार को काम मिला था। उसने कुछ महीने काम करने के बाद अब बंद कर दिया है। भूमिपूजन के दौरान सपना दिखाया गया था कि मार्च तक इसे पूरा कर लिया जाएगा। जून तक की स्थिति में 70 फीसदी काम शेष है। सभापति के वार्ड में इस तरह की मनमानी ठेकेदार और अधिकारी कर रहे हैं। लोगों में इसे लेकर आक्रोश व्याप्त है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में हैदराबाद में शुरू हुई BJP राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठकUdaipur Kanhaiya Lal Murder Case में बड़ा खुलासा: धमकियों के बीच कन्हैयालाल ने एक सप्ताह पहले ही लगवाया था CCTV, जानिए पुलिस को क्या मिला...Udaipur Kanhaiya Lal Murder Case : कोर्ट तक यूं सुरक्षित पहुंचे कन्हैया हत्याकांड के आरोपी लेकिन...ऋषभ पंत 146, रवींद्र जडेजा 104, टीम इंडिया का स्कोर 416, 15 साल बाद दोनों ने रच दिया बड़ा इतिहासMumbai: बीजेपी सांसद हेमा मालिनी ने मुंबई की सड़कों पर गड्ढों को देखकर जताई चिंता, किया पुराने दिनों को याद250 मिनट में पूरा हुआ काशी का सफर, कानपुर-वाराणसी सिक्स लेन का स्पीड ट्रायल सफलनूपुर शर्मा के खिलाफ कोलकाता पुलिस ने जारी किया लुकआउट नोटिस, समन के बाद भी नहीं हुई हाजिरMaharashtra Politics: देवेंद्र फडणवीस किसके कहने पर महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम बनने के लिए हुए तैयार, सामने आई बड़ी जानकारी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.