मोरगा के ग्रामीण हुए लामबंद, पेड़ों की गिनती जबरन करने पर भड़के, रेंजर के खिलाफ शिकायत करते हुए ये कहा...

मोरगा के ग्रामीण हुए लामबंद, पेड़ों की गिनती जबरन करने पर भड़के, रेंजर के खिलाफ शिकायत करते हुए ये कहा...

Vasudev Yadav | Publish: Jun, 20 2019 09:18:09 PM (IST) Korba, Korba, Chhattisgarh, India

मोरगा के ग्रामीण गुरुवार को एक बार फिर से लामबंद हो गए। पेड़ोंं की गिनती जबरन करने पर ग्रामीण भड़क गए। रेंजर के खिलाफ शिकायत करते हुए ग्रामीणों ने कहा कि उनका क्षेत्र पांचवी अनुसूचित क्षेत्र में होने केे बाद भी ग्राम सभा के बगैर विभाग गिनती करने में आमादा है।

कोरबा. ग्रामीणों ने वनमंत्री के नाम ज्ञापन भेजा है इसमेंं केन्दई रेंजर एके चौबे के खिलाफ शिकायत की है। ग्रामीणों ने लिखा है कि रेंजर द्वारा वन अधिकार अधिनियम का उल्लंघन किया जा रहा है। ग्राम सभा व ग्रामीणों के सहमति के बिना आंध्रप्रदेश मिनरल पॉवर कोल कंपनी के लिए क्षेत्र में पेड़ों की गणना कराई जा रही है। जिसका ग्रामीण कई बार विरोध कर चुके हैं। उसके बाद भी रेंजर द्वारा ग्रामीणों की बैठक बुलाकर प्रशासनिक दबाव बनाने की बात करते हैं। मोरगा क्षेत्र पांचवी अनुसूचित क्षेत्र मेें आता है उसके बाद भी रेंजर द्वारा असवैधानिक रूप से कोशिश की जा रही है। ग्रामीणों ने रेंजर के तबादले की भी मांग की है।

Read More: Counterfeit note : नकली नोट बनाने वाले गिरोह के छह सदस्यों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, इतने लाख नकली नोट के साथ ये भी किया जब्त
आंध्र के प्रमुख सचिव आ रहे अगले महीने
बताया जा रहा है कि आंध्र प्रदेश के प्रमुख सचिव दो जुलाई को कोरबा प्रवास पर आ रहे हैं। ग्रामीणों के विरोध की वजह से पिछले सवा साल से पेड़ों की रिपोर्ट नहीं आ सकी है। इस वजह से पेड़ कटाई नहीं हो पा रही है। खदान शुरू नहीं हो पा रहा है। बताया जा रहा है कि इन्हीं अड़चनों को देखते हुए आंध्र प्रदेश के प्रमुख सचिव कोरबा प्रवास पर रहेंगे। जहां वे प्रशासन व ग्रामीणों से भी चर्चा कर सकते हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned