दैनिक वेतनभोगी कर्मी हत्या का मामला : आशिक के कहने पर युवती ने 1.90 लाख रुपए में दी थी सुपारी

- युवती सहित चार आरोपियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार -अवैध संबंध से जुड़ा है मामला

By: Vasudev Yadav

Updated: 02 Mar 2019, 09:29 PM IST

कोरबा. पाली के जंगल में हुई दैनिक वेतनभोगी कर्मी रंगनाथ के हत्या की गुत्थी पुलिस ने सुलझा ली है। हत्या के आरोप में एक युवती और तीन युवक को गिरफ्तार किया है। आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया। मजिस्ट्रेट के आदेश पर जेल भेज दिया गया। हत्या अवैध संबंध के कारण हुई थी। हत्याकांड की जानकारी देते हुए पुलिस अधीक्षक जितेन्द्र सिंह मीणा ने बताया कि २८ फरवरी को पाली थाना क्षेत्र में सरायपाली से दमिया की ओर जाने वाली सड़क पर खून से लथपथ एक व्यक्ति की लाश मिली थी। लाश के पास एक बाइक खड़ी थी। मृतक का गला धारदार हथियार से काटा गया था।

घटना के तीन घंटे बाद मृतक की पहचान जिला बिलासपुर थाना रतनपुर ग्र्राम पंचायत कर्रा के गांव मेलनाडीह में रहने वाले रंगनाथ श्याम उम्र ३५ साल से की गई थी। रंगनाथ रतनपुर के पास स्थित वन विभाग की नर्सरी में दैनिक वेतनभोगी कर्मी के रूप में काम करता था। जांच में पता चला कि मृतक रंगनाथ पत्नी से अलग रहता था। रंगनाथ की पत्नी से ग्राम कर्रा में रहने वाले शिवशंकर यादव का अवैध संबंध था। पुलिस ने शिवशंकर को पकड़कर पूछताछ की। उसने कड़ाई से पूछताछ करने पर विन्नी उर्फ विनिता मानिकपुर के साथ मिलकर रंगनाथ की हत्या करना स्वीकार किया।

शिवशंकर ने रंगनाथ की हत्या कराने के लिए विनिता से सम्पर्क किया था। विनिता ने एक लाख ९० हजार रुपए में रंगनाथ की हत्या की सुपारी दीपका में रहने वाले रविकांत बाल्मिकी और सुनील सत्तेल नाम के युवक को दिया था। पुलिस ने रंगनाथ की हत्या के आरोप में शिवशंकर, विनिता, रविकांत और सुनील को गिरफ्तार किया है। आरोपियों को कोर्ट में पेश किया गया। वहां से जेल भेज दिया गया।

दैनिक वेतनभोगी कर्मी हत्या का मामला : आशिक के कहने पर युवती ने 1.90 लाख रुपए में दी थी सुपारी

रंगनाथ की पत्नी को अपने घर में रखा
पुलिस को पता चला है कि वर्ष २०१२ में रंगनाथ की मुलाकात शिवशंकर से हुई थी। शिवशंकर ने रंगनाथ को खूंटाघाट उद्यान में काम पर लगवाया था। तभी से शिवशंकर का रंगनाथ के घर आना जाना था। रंगनाथ की पत्नी रामेश्वरी को कोई संतान नहीं थी। शिवशंकर रामेश्वरी का इलाज कराने जाता था। इस बीच दोनों एक दूसरे के करीब आए। उनके बीच संबंध स्थापित हो गया। रंगनाथ की पत्नी को लेकर शिवशंकर भाग गया। गांव में किराए की मकान में रहता था। इस पर गांव वालों ने नाराजगी जताई। गांव में पंचायत बैठी। शिवशंकर ने रामेश्वरी को छोड़ दिया। इसके बाद भी दोनों के बीच संबंध थे।

विन्नी को भी प्रेम जाल में फंसाया
रामेश्वरी को अपने साथ रखने पर शिवशंकर को परेशानी होती है। उसने रंगनाथ के हत्या की योजना बनाई। इसमें विनिता की मदद ली। विनता से भी शिवशंकर के संबंध हैं। शिवशंकर ने विनिता को रंगनाथ का मोबाइल नंबर दिया। विनिता को रंगनाथ से बातचीत करने के लिए कहा। रंगनाथ विनिता की झांसे में आ गया। वह विनिता के करीब आया। उनके संबंध स्थापित हो गया।

1.90 लाख में सुपारी
शिवशंकर को विनिता ने बताया कि रंगनाथ झांसे में फंस गया। शिवशंकर और विनिता ने रंगनाथ के हत्या की योजना बनाई। इसके लिए दीपका के प्रगतिनगर झोपड़ी पट्टी में रहने वाले सुनील और रविकांत से सम्पर्क किया। विनिता की बुआ कुसमुंडा में रहती है। विनिता का कुसमुंडा आना-जाना था। इस बीच विनिता की मुलाकात रविकांत से हुई थी। दोनों एक दूसरे के करीब आ गए थे। विनिता ने रविकांत को रंगनाथ की हत्या के लिए तैयार किया। इसके लिए एक लाख ९० हजार रुपए में सुपारी दी। रविकांत ने सुनील को तैयार किया था।

24 फरवरी को पाली में मिले
हत्या की योजना तैयार करने के लिए २४ फरवरी को रविकांत और सुनील पाली पहुंचे। शिवशंकर विनिता को लेकर पहुंचा। हत्या के लिए सरायपाली दमिया मार्ग पर स्थित झोरखी जंगल को चुना गया। स्थान के पास पेड़ पर एक कपड़ा बांधा गया। हत्या के लिए २७ फरवरी निर्धारित किया गया।

विनिता रंगनाथ को लेकर पहुंची
27 फरवरी की शाम सात बजे विनिता रंगनाथ को बाइक से लेकर झोरखी जंगल पहुंची। वहां पहले से रविकांत और सुनील थे। दोनों ने रंगनाथ को कब्जे मेें लिया। जमीन पर पटक दिया। रविकांत ने लिनियाड से रंगनाथ का गला दबा दिया। सुनील ने अपने हाथ में रखे चाकू से रंगनाथ का गला काट दिया। इस दौरान विनिता रंगनाथ के पैर को दबाकर बैठी थी।

ये सामान जब्त
आरोपियों के कब्जे से पुलिस ने एक लाख ९० हजार रुपए, चाकू और मृतक का मोबाइल फोन जब्त किया है। रविशंकर और सुनील केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल की गेवरा दफ्तर में सफाई कर्मी का काम करते हैं। विनिता जांजगीर-चांपा जिले के गांव कटघरी थाना अकलतरा की निवासी है।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned