कोयला खदानों के रिहायशी क्षेत्रों में बंद होगी बाहर के ड्राईवर, हेल्परों की आवाजाही

Coronavirus: कलेक्टर किरण कौशल ने दीपका सहित जिले के सभी कोल क्षेत्रों में कोयला परिवहन वाली गाडिय़ों के साथ अन्य राज्य एवं जिले से आए ड्राईवर, हेल्पर, श्रमिकों के बस्तियों में आवागमन एवं अनाधिकृत प्रवेश को नियंत्रित करने के निर्देश टास्क फोर्स के अधिकारियों को दिये हैं।

By: Vasudev Yadav

Published: 05 May 2020, 04:24 PM IST

कोरबा. इस संबंध में कलेक्टर ने एडीएम संजय अग्रवाल और एसडीएम सूर्यकिरण तिवारी की मौजूदगी में दीपका में महत्वपूर्ण बैठक ली और विशेष टास्क फोर्स सहित एसईसीएल प्रबंधन सीआईएसएफ, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, कार्यपालिक मजिस्ट्रेट, थाना प्रभारी एवं नगरीय प्रशासन दीपका के अधिकारियों को जरूरी निर्देश दिए।

कलेक्टर किरण कौशल द्वारा निर्देशित किया गया कि कोल क्षेत्रों के रिहायसी इलाकों और बस्तियों में बाहर के ड्राईवर, हेल्पर, श्रमिकों आदि को नियंत्रित करने के लिए गठित विशेष टास्क फोर्स 24 घंटे कार्यशील रहे। जिला प्रशासन द्वारा कोल क्षेत्र में चलने वाले वाहनों के ड्राईवरो, कंडेक्टरों, हेल्परों से रिहायसी क्षेत्रों में कोरोना संक्रमण फैलने की संभावना को देखते हुए विशेष सावधानी बरती जा रही है। कलेक्टर किरण कौशल द्वारा कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के रोकथाम के लिए कोल क्षेत्रों में चलने वाले कोयला ट्रकों के परिवहन पर निगरानी रखने के लिए 11 सदस्यीय विशेष टास्क फोर्स का गठन किया गया है। यह विशेष टास्क फोर्स कोल क्षेत्र में चलने वाली समस्त कोयला ट्रकों के परिवहन पर आवश्यक पर्यवेक्षण करेंगे। टास्क फोर्स द्वारा सभी कोयला गाडिय़ों के निर्धारित रूट पर ही चलना सुनिश्चित किया जायेगा।

कलेक्टर किरण कौशल ने दीपका में हुई बैठक में कहा कि एसईसीएल दीपका, गेवरा, कुसमुंडा, कोरबा माईनिंग क्षेत्र के पास सघन आबादी वाली बस्तियां हैं। इन क्षेत्रों में कोयला परिवहन वाली गाडिय़ों के साथ ड्राईवर, हेल्पर जैसे बाहरी लोगों का बड़ी संख्या में आवागमन प्रतिदिन होता रहता है। दीपका सहित सभी कोल क्षेत्र के आसपास की बस्तियां कोरोना संक्रमण के लिए संवेदनशील जोन हो सकती है तथा इन गाडिय़ों के परिवहन से कोरोना संक्रमण का फैलाव भी हो सकता है। इसलिए किसी भी स्थिति में कोयला परिवहन में लगी गाडिय़ां बस्ती एवं बस्ती के आसपास क्षेत्र में खड़ी न हो और गाडिय़ों के चालक-परिचालक आबादी क्षेत्र में अनावश्यक रूक कर रात्रि विश्राम तथा भ्रमण न करें।

Read More: लॉकडाउन में फंसे झारखंड श्रमिकों के घर वापसी पर खिले चेहरे, कहा- छत्तीसगढिय़ा सबले बढिय़ा

कलेक्टर कौशल ने इस संबंध अधिकारियों को निर्देशित किया कि विशेष टास्क फोर्स कोल क्षेत्र में गाडिय़ों के रूकने का स्थान, आटो पाट्र्स दुकान के लिए स्थान एवं रिपेयर स्थल चिन्हांकित करेंगे। टीम द्वारा यह भी सुनिश्चित किया जायेगा कि गाडिय़ां, चालक-परिचालक व अन्य संदिग्ध लोग माईनिंग एरिया के बाहर न निकलें। ड्राईवरों-हेल्परों के ठहरने आदि की जगह का चिन्हाकन कर पर्याप्त बेरिकेटिंग लगाकर निगरानी की जायेगी। टास्क फोर्स द्वारा चालक-परिचालक, हेल्पर, क्लीनर के रूकने व भोजन की व्यवस्था कोल एरिया के भीतर ही संस्थान द्वारा करवाया जाना सुनिश्चित किया जाएगा। कलेक्टर ने कहा कि टीम के सदस्य इन कोल क्षेत्रों में प्रतिदिन पेट्रोलिंग करके हर एक स्थिति पर नजर रखेंगे।

coronavirus COVID-19
Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned