कोविड-19 रिलिफ फण्ड से गरीब, बेसहारा लोगों को दिए जाएंगे सूखे भोजन के पैकेट, पांच किलो चावल के साथ ये भी होगा

Lockdown: लॉकडाउन की स्थिति में गरीब, बेसहारा व अन्य राज्य के प्रवासी कामगारों के पास रोजी-रोटी की समस्या को देखते हुए प्रशासन ने ऐसे लोगों को राहत देने के लिए सूखे भोजन के पैकेट वितरित किए जाने के निर्देश कलेक्टर ने खाद्य विभाग के अधिकारियों को दिए हैं।

कोरबा. कोरोना वायरस से बने मौजूदा हालातों में लॉकडाउन की स्थिति के कारण कई गरीब, बेसहारा लोगों के साथ-साथ अन्य राज्यों से कोरबा जिले में रोजी-मजदूरी करने आए लोगों के सामने भी भोजन की समस्या आ सकती है। इसे गम्भीरता से लेते हुए कलेक्टर किरण कौशल ने ऐसे सभी लोगों को सूखे भोजन के पैकेट वितरित करने के निर्देश खाद्य विभाग के अधिकारियों को दिए हैं।

कलेक्टर ने कहा है कि गरीब, बेसहारा लोगों के साथ-साथ अन्य राज्यों से रोजी-मजदूरी करने आए लोग लॉकडाउन के कारण काम पर नहीं जा पा रहे हैं। इसके साथ ही वे अपने मूल स्थानों पर भी नहीं लौट पा रहे हैं। ऐसी स्थिति में इनके भोजन की व्यवस्था जिला प्रशासन का दायित्व है और इसके लिए सभी जरूरी प्रयास किए जा रहे हैं। सूखे भोजन के पैकेटों में पांच किलो चावल, पांच किलो दाल, एक किलो आलू के साथ हल्दी-मिर्ची-धनिया मसाले वाले छोटे पैकेट रहेंगे।

Read More: होम आइसोलेशन या क्वारेंटाईन सेंटर में रहने वाले लोगों से बाहर नहीं निकलने कलेक्टर की अपील, कहा- जरूरी सामान पहुंचाए जाएंगे घर तक

जरूरतमंद लोगों को यह पैकेट नगर निगम क्षेत्र में नगर निगम कमिश्नर के अनुशंसा पर मिलेंगे। वहीं अन्य क्षेत्रों में अनुविभागीय राजस्व अधिकारी की अनुशंसा पर संबंधित क्षेत्र में ऐसे जरूरतमंदों को सूखे भोजन के यह पैकेट दिए जाएंगे। लोग इन पैकेटों को लेकर स्वयं पकाकर खा सकेंगे। कौशल ने वीडियोकॉन्फेंसिंग के दौरान कहा कि किसी भी हालत में लोगों को एक जगह पर खाना पकाकर खिलाने से बचने के लिए यह व्यवस्था की जा रही है। इसका सम्पूर्ण खर्चा कोविड-19 रिलिफ फण्ड से वहन किया जाएगा।

coronavirus Coronavirus in india
Vasudev Yadav Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned