कर्मचारी युनियनों का भौतिक सत्यापन शुरू अब पता चलेगा किसमे कितना है दम

यूनियन की मजबूती और उसके समर्थकों का पता लगाने के लिए एसईसीएल ने भौतिक सत्यापन शुरू किया गया है।

By: Shiv Singh

Published: 11 Sep 2017, 11:51 AM IST

कोरबा. यूनियन की मजबूती और उसके समर्थकों का पता लगाने के लिए एसईसीएल ने भौतिक सत्यापन शुरू किया गया है। 15 सितंबर तक सत्यापन पूरी करने का लक्ष्य रखा गया है।


एसईसीएल के अधीन अलग अलग क्षेत्र की कोयला खदानों में करीब 60 हजार 791 कर्मचारी नियोजित हैं। कर्मचारी किस यूनियन या संगठन से ताल्लुक रखते हैं? इसका भौतिक सत्यापन प्रबंधन ने शुरू किया है।


कोरबा, गेवरा, दीपका और कुसमुंडा क्षेत्र में सत्यापन के लिए अलग-अलग तारीख निर्धारित की गई है। इस अवधि में कर्मचारी को कहा गया है कि कार्मिक प्रबंधक के कार्यालय में उपस्थित होकर अपनी स्थिति स्पष्ट करें।

यूनियन का नाम बताते हुए सादे कागज पर आवेदन या निर्धारित प्रारुप में फार्म जमा करने के लिए कहा गया है। कर्मचारी को यह भी बताना होगा की उसकी सदस्यता राशि किस यूनियन के लिए काटी जाए।

रविवार को बांकीमोंगरा क्षेत्र में नियोजित कर्मचारियों का सत्यापन किया गया। इसके पहले शनिवार को गेवरा प्रोजेक्ट के कुछ हिस्सों में सत्यापन किया गया।


एसईसीएल में नंबर वन का दर्जा हासिल करने के लिए श्रमिक संगठनों ने पूरी ताकत झोक दी है। कर्मचारियों को अपने अपने पक्ष में रिझाने की कोशिश कर रहे हैं। इसमें बीएमएस, इंटक, एटक और एचएमएस सहित अन्य यूनियन लगे हैं।


17 हजार कर्मचारी- कोरबा जिले में एसईसीएल की अलग अलग कोयला खदानों में करीब 17 हजार कर्मचारी नियोजित हैं। एरिया स्तर पर कर्मचारियों का सत्यापन 15 सितंबर तक पूरी करनी है। इसके बाद मुख्यालय को रिपोर्ट दी जाएगी।


महत्वपूर्ण है सदस्य संख्या- भौतिक सत्यापन प्रबंधन यह जानने के लिए करता है कि किसी यूनियन के साथ कितने कर्मचारी जुड़े हैं? इसी आधार पर प्रबंधन श्रमिक नेताओं को महत्व देता है। हालांकि किसी बैठक में प्रतिनिधित्व देने या न देने पर यूनियन की सदस्य संख्या को तवज्जो नहीं दी जाती है।


डीए में 2.2 फीसदी की बढ़ोत्तरी, बेसिक का 49.7 फीसदी मिलेगा
कोयला कर्मचारियों के महंगाई भत्ता में कोल इंडिया ने 2.2 फीसदी की बढ़ोत्तरी की है। कर्मचारियों को उनकी बेसिक का 49.7 फीसदी डीए मिलेगा। तीन माह बाद इसकी समीक्षा होगी।

नया डीए पहली सितंबर से 30 नंबर तक प्रभावित रहेगा। इसके बाद कंपनी दोबारा समीक्षा करेगी। सितंबर तक कर्मचारियों को 47.5 फीसदी की दर से डीए का भुगतान प्राप्त होता था। डीए में बढ़ोत्तरी का लाभ कोल इंडिया के अधीन नियोजित करीब साढ़े तीन लाख कर्मचारियों को मिलेगा।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned