VIDEO: प्रकाश पर्व पर गुरुद्वारा में कीर्तन, साध संगत ने गुरुग्रंथ साहिब के सम्मुख टेका मत्था

Prakash parva 2020: गुरु गोविंद सिंह की मनाई गई जयंती, सिक्ख समाज के अलावा अन्य लोगों ने भी शामिल होकर वाहे गुरु का प्रसाद ग्रहण किया।

By: Vasudev Yadav

Updated: 03 Jan 2020, 06:37 PM IST

कोरबा. खालसा पंथ के संस्थापक गुरु गोविंद सिंह 353वें प्रकाश पर्व पर गुरुवार को ट्रांसपोर्ट नगर स्थित गुरुसिंह सभा गुरुद्वारा में आयोजन किया गया। यहां सुबह से ही गुरुग्रंथ साहिब की पूजा-अर्चना व अरदास करने सिक्ख समाज के महिला, पुरुष व बच्चे पहुंचते रहे।

गुरुद्वारा में शबद कीर्तन ज्ञानी स्वर्ण सिंह कनाडा वाले के द्वारा किया गया। गुरुद्वारा परिसर में आम लंगर का भी आयोजन किया गया, जिसमें सिक्ख समाज के अलावा अन्य लोगों ने भी शामिल होकर वाहे गुरु का प्रसाद ग्रहण किया। इसी तरह जिले के अन्य गुरुद्वारों में भी गुरुगोविंद सिंह की जयंती पर आयोजन कर उन्हें याद किया गया।

Read More: बादलों के बीच दुबके रहे सूर्यदेव, बारिश थमने से राहत, दो दिन बाद खुलेंगे स्कूल
आयोजनों को सफल बनाने में सिक्ख समाज के वरिष्ठ जनों एवं युवाओं तथा महिलाओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। आज प्रकाश पर्व आयोजन से दो दिन पूर्व शहर में नगर कीर्तन निकाला गया। इतवारी बाजार, पुरानी बस्ती स्थित गुरुद्वारा से यह नगर कीर्तन प्रारंभ हुआ, जो टीपी नगर गुरुसिंह सभा गुरुद्वारा पहुंचकर विराम दिया गया। यहां गौरतलब हो कि गुरुगोविंद सिंह आध्यात्मिक गुरु होने के साथ-साथ निर्भयी योद्धा, कवि और दार्शनिक भी थे।

Read More: विचरण कर रहे चीतल पर कुत्तों ने कर दिया हमला, मौत

प्रकाश पर्व पर गुरुद्वारा में कीर्तन, साध संगत ने गुरुग्रंथ साहिब के सम्मुख टेका मत्था

उन्होंने मुगलों से धर्म की रक्षा के लिए खालसा पंथ की स्थापना की थी। सिक्खों के लिए पांच चीजें बाल, कड़ा, कच्छा, कृपाण और कंघा धारण करने का आदेश गुरुगोविंद सिंह ने ही दिया था। इन चीजों को पांच ककार कहा जाता है, जिन्हें धारण करना सभी सिक्खों के लिए अनिवार्य होता है। गुरुगोविंद सिंह ने ही गुरुग्रंथ साहिब को गुरु के रूप में स्थापित किया था। गुरु गोविंद सिंह के चार पुत्रों ने भी धर्म की रक्षा के लिए अपनी शहादत दी थी, जिन्हें भी सिक्ख समाज ने याद किया।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned