scriptReady to eat is not reaching rural areas on time | ग्रामीण क्षेत्रों में समय पर नहीं पहुंच रहा रेडी टू ईट | Patrika News

ग्रामीण क्षेत्रों में समय पर नहीं पहुंच रहा रेडी टू ईट

कोरबा. छत्तीसगढ़ एग्रो फूड कार्पोरेशन लिमिटेड द्वारा रेडी टू ईट के वितरण में लापरवाही शुरु कर दी गई है। दरअसल ग्रामीण क्षेत्रों के कई सेक्टरों में रेडी टू ईट नहीं पहुंच पा रहा है। जहां पहुंच रहा है वहां भी विलंब से।

कोरबा

Published: June 21, 2022 05:45:21 pm

इसके साथ ही सेक्टरों से आंनगबाड़ी केन्द्रों तक पहुंचने में भी देरी हो रही है। जून महीना आधा से अधिक बीत जाने के बाद भी रेडी टू ईट के नहीं बंटने की वजह से अब छत्तीसगढ़ एग्रो फूड कार्पोरेशन लिमिटेड पर सवाल उठने लगे हैं।
गौरतलब है कि अब तक स्व सहायता समुहों के पास ये काम था।
ग्रामीण क्षेत्रों में समय पर नहीं पहुंच रहा रेडी टू ईट
ग्रामीण क्षेत्रों में समय पर नहीं पहुंच रहा रेडी टू ईट
सरकार द्वारा अब इसकी जिम्मेदारी एक संस्था को दे दी गई है। रेडी टू ईंट सही तरीके से बंटे इसके लिए जिला व ब्लॉक समन्वयक नियुक्त किए गए हैं, लेकिन उसके बाद भी स्थिति नहीं सुधर पा रही है। शहरी क्षेत्र में वितरण समय पर हो जा रहा है, लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों में रेडी टू ईट प्रदाय करने के लिए कंपनी द्वारा अब तक नेटवर्क मजबूत नहीं किया गया है। यही वजह है बीहड़ अंचलों में समय पर रेडी टू ईंट का वितरण नहीं हो पा रहा है।

गौरतलब है कि सरकार द्वारा लिए गए निर्णय के खिलाफ याचिका हाइकोर्ट में लगाई गई थी। लगातार लोगों द्वारा विरोध किया जा रहा था। निर्णय होने तक रेडी टू ईट का वितरण पूरी तरह से बंद था। अब जब शुरु होने जा रहा है तो भी लापरवाही सामने आ रही है।

0 गोदाम से आंगनबाड़ी तक पहुंचने में लग रहे तीन दिन
छत्तीसगढ़ एग्रो फूड कार्पोरेशन लिमिटेड द्वारा रेडी टू ईंट को कुछ जगहों पर सेक्टरों के गोदाम तक पहुंचा दिया जा रहा है लेकिन उसके आगे आंगनबाड़ी केन्द्रों तक पहुंचाने में लापरवाही बरती जा रही है। गोदाम से आंगनबाड़ी केन्द्रों तक पहुंचाने की जिम्मेदारी सेक्टर सुपरवाइजर की होती है, लेकिन सुपरवाइजर को किसी तरह की संसाधन नहीं मिलने की वजह से वितरण सुचारु रुप से नहीं हो पा रहा है।

0 14 परियोजना में ढाई हजार आंगनबाड़ी
जिले के कुल 14 परियोजना के अंतर्गत ढाई हजार से अधिक आंगनबाड़ी केन्द्रों में सप्ताह में दो दिन रेडी टू ईट समय पर पहुंच सके इसके लिए किसी तरह की ठोस सिस्टम नहीं बनाया गया है। इससे पूर्व रेडी टू ईट बनने से लेकर बंटने तक का एक सुचारु सिस्टम बन गया था। जहां लापरवाही या देरी होती थी पकड़ में भी आ जाता था, अभी कंपनी, ब्लॉक समन्वयक और सेक्टर सुपरवाइजर के बीच समन्वय की कमी देखी जा रही है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, स्टाफ सहित 27 लोग थे मौजूद, सभी सुरक्षितत्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.