अब डाक सेवक 23 को रायपुर में रैली निकालकर निकालेंगे भड़ास

डाक सेवकों का कहना है कि मांगे पूरी नहीं होने तक हड़ताल जारी रहेगी। ये आर-पार की लड़ाई है।

By: Shiv Singh

Published: 18 Aug 2017, 08:36 PM IST

कोरबा. एआईजीडीएसयू की अनिश्चित कालीन हड़ताल तीसरे दिन भी जारी रही। डाक सेवक संघ ने मांग को लेकर 20 जुलाई को सर्कल कार्यालय में भूख हड़ताल की थी लेकिन मांगे पूरी न होने पर संगठन ने अब 16 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है। डाक सेवकों का कहना है कि मांगे पूरी नहीं होने तक हड़ताल जारी रहेगी। ये आर-पार की लड़ाई है। डाक सेवकों द्वारा 23 अगस्त को रायपुर में रैली निकालकर राज्यपाल को पीएम के नाम ज्ञापन सौंपा जाएगा, साथ ही 31 अगस्त को बिलासपुर में रैली निकालकर कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर अपनी मांगों से अवगत कराएंगे।
अखिल भारतीय डाक सेवक संघ (एआईजीडीएसयू) द्वारा संघ की मांग को लेकर 16 अगस्त से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है। इसके लिए संघ ने मांग पत्र जारी किया गया है। जिसमें मांगों का उल्लेख किया गया है। उल्लेखित है कि जीडीएस कमेटी के रिपोर्ट को एआईजीडीएसयू के सुझाव को जल्द लागू करने, ग्रामीण डाक सेवकों का 8 घंटों का कार्य एवं विभागीयकरण करने, ग्रामीण डाक सेवकों को पेंशन लागू करने, केन्द्रीय कैट एवं मद्रास बैंच के आदेशानुसार जीडीएस पेंशन लागू करने, जीडीएस का टारगेट के नाम पर परेशानी एवं उत्पीडऩ बंद करने के संबंध में मांग की गई है। इस संबंध में 20 जुलाई को सर्कल कार्यालय में भूख हड़ताल की गई थी। भूख हड़ताल के बाद जगह-जगह कन्वेंशन, रैली एवं प्रदर्शन कर संगठित किया। इस अवसर पर अध्यक्ष फूलचंद चन्द्रा, छग परिमंडल सचिव राजेश गुरुद्वान, सचिव एसएम सलीम बिलासपुर, सहायक महा सचिव नारायण चौधरी दिल्ली एवं अन्य शामिल हुए।

उल्लेखनीय है कि इन मांगों को लेकर ग्रामीण डाक सेवक लंबे समय से आंदोलनरत हैं लेकिन केन्द्र सरकार की उनकी मांगों को लेकर गंभीरता नहीं दिखा रही है। ऐसे में अब ग्रामीण डाक सेवकों ने बेमियादी आंदोलन शुरू करने का निर्णय लिया है। आंदोलन के तीसरे दिन स्थिति यह रही कि कोरबा के ग्रामीण क्षेत्रों मेें वितरित की जाने वाली डाक मुख्य डाकघर में ही रखी हुई है और उसे ग्रामीण डाक सेवक वितरित करने के लिए तैयार नहीं हैं। हालांकि इन्हें मनाने के लिए डाकघर के वरिष्ठ अधिकारी लगे हुए हैं ताकि ग्रामीण क्षेत्रों में डाक वितरण सुचारु रूप से किया जा सके लेकिन आंदोलित ग्रामीण डाक सेवकों ने स्पष्ट किया है कि यह आंदोलन राष्ट्रीय स्तर पर किया जा रहा है। इसलिए आंदोलन से अलग होना संभव नहीं हैं। शुक्रवार को हड़ताल में परिमंडल महासचिव राजेश गुरुद्वान, कामरेड हॉजी मोहम्मद सलीम, संभागीय सचिव बिलासपुर के साथ ही 50 से अधिक डाक सेवक उपस्थित थे।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned