बंपर आवेदन के बाद छात्र प्रवेश में नहीं ले रहे रूचि, सीटें भरने कॉलेजों में तीसरी मेरिट सूची जारी

जिले के प्रमुख कॉलेजों की सीटें अब भी रिक्त हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों की स्थिति खराब है।

By: Shiv Singh

Published: 24 Jul 2018, 09:57 AM IST

कोरबा. कॉलेजों में प्रवेश के लिए बंपर आवेदन किए जाने के बाद जब छात्र प्रवेश लेने में रूचि नहीं ले रहे हैं। इसे देखते हुए बीयू ने आदेश पर कालेजों में तीसरी मेरिट सूची जारी कर दी गयी है। तीसरे चरण के लिए आनलाइन आवेदन के लिए २२ जुलाई तक बीयू पोर्टल खोला गया था। ३१ जुलाई तक कॉलेज में प्रवेश देने के कुलपति के अधिकार को प्राचार्यांे को सौंप दिया गया है। जिले के प्रमुख कॉलेजों की सीटें अब भी रिक्त हैं। ग्रामीण क्षेत्रों के कॉलेजों की स्थिति खराब है। वहां आवेदन भी कम हैं और प्रवेश लेने वाले छात्रों की संख्या भी। ऐसे में बीयू कॉलेज में प्रवेश की कम संख्या को चिंतित है।

कक्षाएं शुरू करने में दिक्कत
बीयू ने कॉलेजों के एक जुलाई से कक्षाएं शुरू करने के भी निर्देश दिए थे। लेकिन प्रवेश में विलंब और प्रवेश परिणाम जारी होने में देरी की वजह से ज्यादातर महाविद्यालयों में कक्षाएं शुरू करने में दिक्कत आ रही है।

प्रमुख कॉलेजों में प्रवेश की स्थिति
जिले के लीड पीजी कॉलेज में बीए की २०० सीटों में १३२, बीएससी की ३०० सीटों पर २१३ तो बी कॉम की २०० सीटों के मुकाबले १३१ छात्रों ने ही प्रवेश लिया है। इसी तरह केएन कॉलेज में बीए, बीएससी और बी कॉम की क्रमश: २४०, २२० व १२० कुल उपलब्ध सीटों की तुलना में ९२, १०४ और १४६ छात्रों ने ही प्रवेश लिया है। जबकि जिले के भैसमा, दीपका, बरपाली व पाली जैसे कॉलेजों में ५० फीसदी से भी अधिक सीटें रिक्त हैं।

कटघोरा व हरदीबाजार में बेहतर
प्रवेश के मामले में इस वर्ष सबसे बेहतर शासकीय मुकुटधर पाण्डेय महाविद्यालय कटघोरा की है। जहां बीए की सभी २४० सीटें फुल हो चुकी हैं। तो बीएससी की २२० में से १९५ और बी कॉम की १२० में ११९ सीटों पर छात्रों ने दाखिला ले लिया है। एक तरह से कटघोरा में प्रथम वर्ष की सभी सीटें भर चुकी हैं। इसके बाद दूसरा नंबर है शासकीय ग्राम्य भारती महाविद्यालय हरदीबाजार यहां भी प्रथम वर्ष की सीटें लगभग भरने के कगार पर हैं।

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned