दावा 83 लीटर पानी का, मिल रहा 35 से 45 लीटर

दावा 83 लीटर पानी का, मिल रहा 35 से 45 लीटर

Vasudev Yadav | Publish: May, 19 2019 11:21:01 AM (IST) | Updated: May, 19 2019 11:21:02 AM (IST) Korba, Korba, Chhattisgarh, India

कागजों में आंकड़ा, वास्तविकता से कोसो दूर
कई-कई दिन तक पानी नहीं आ रहा

कोरबा. कहीं 83 लीटर पानी देने का दावा किया जा रहा है, तो कहीं ७० तो कहीं ६५ लीटर। निकायों का दावा है प्रतिदिन प्रतिव्यक्ति इतने पानी की सप्लाई की जा रही है, लेकिन योजनाओं के पूरा नहीं होने और वैकिल्पक व्यवस्था लचर होने की वजह से पर्याप्त पानी लोगों तक नहीं पहुंच रहा है। आलम ये है कि प्रति व्यक्ति३५ से ४५ लीटर ही पानी लोगों के घरों तक पहुंच रहा है। चाहे वह रिहायशी क्षेत्र हो या फिर स्लम बस्ती, स्थिति एक जैसी है। पानी वितरण व्यवस्था में इतने लीकेज हैं कि कोई भी निकाय इतना पानी नहीं दे सकता। कई स्थानों पर अब भी पाइप लाइन नहीं बिछायी जा सकी है।

कोरबा नगर पालिक निगम
कोरबा निगम का दावा है कि वह हर रोज प्रति व्यक्तितक ८३ लीटर पानी की आपूर्ति करती है। रिहायशी क्षेत्रों में निगम दो बार आधे-आधे घंटे पानी की आपूर्ति करती है। शहर के ४० वार्ड में योजना का काम पूरा हो चुका है। जहां कनेक्शन दिया गया है वहां पानी की आपूर्ति हो रही है जहां कनेक्शन अब तक नहीं दिया जा सका है वहां पर्याप्त पानी नहीं पहुंच रहा है। वहीं बांकीमोंगरा व दर्री जोन के वार्डों में अभी योजना पर काम चल रहा है। इसलिए तब तक २६ टैंकरों के भरोसे सप्लाई हो रही है, लेकिन दायरा इतना अधिक है कि सभी तक हर रोज इतना पानी पहुंच सके यह अभी मुश्किल नजर आ रहा है।

नगर के लोग शुद्ध पानी से वंचित
दीपका नगर पालिका परिषद द्वारा भी प्रतिदिन प्रति व्यक्ति ६५ लीटर पानी देने का दावा किया जा रहा है। नगर पालिका के पास सिर्फ एक ओवरहेड टंकी है। ओवरहेड टंकी के अलावा ट्रीटमेंट प्लांट अब तक दीपका नपा के पास नहीं है। टंकी से वार्डों में प्रतिदिन तीन लाख लीटर पानी की सप्लाई हो रही है। १५ वार्डों में आधे में एसईसीएल प्रबंधन द्वारा सुविधा दी जा रही है। आधे वार्डों में नपा से पानी की आपूर्ति की जा रही है। पीएचई ने जिस योजना पर काम किया वह पूरी तरह से फेल रहा। इसलिए पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा है।

वर्जन
आधे वार्डों में एसईसीएल द्वारा पानी की आपूर्ति कराई जाती है। शेष वार्डों मेंं ही नपा को पानी देना होता है। इसमें निकाय पूरी तरह से फिसड्डी साबित हो रही है। ६५ लीटर प्रतिदिन प्रति व्यक्तिपानी सिर्फ रिकार्ड में ही है। वास्तविकता कोसो दूर है।
इस्तखार अली, कांग्रेस पार्षद, दीपका नगर पालिका

टैंकर के भरोसे शहर
कटघोरा नगर पूरी तरह से टैंकर के भरोसे है। रोजाना टैंकरों द्वारा पानी की सप्लाई की जा रही है। नपा दावा कर रहा है कि वह प्रतिदिन प्रति व्यक्ति ७० लीटर पानी की आपूर्ति कर रही है। टैंकर के भरोसे आखिर किस हिसाब से ७० लीटर पानी की आपूर्ति प्रति व्यक्ति की जा रही है, यह समझ के परे है। लोगों के घरों तक सीधे नल कनेक्शन से पानी की आपूर्ति आज भी नहीं हो पा रही है। आम लोगों का कहना है कि नपा की पानी सप्लाई में कई खामियां हैं। इतने साल बाद में जल आवर्धन का काम अधूरा है।

छुरी नगर पंचायत
ट्यूबवेल पर निर्भर छुरीकला नगर की पेयजल किल्लत लम्बे समय से बनी हुई है। इसके बाद भी छुरी नपा दावा कर रही है कि वह प्रतिदिन प्रति व्यक्ति ६० लीटर पानी लोगों के घरों तक पहुंचा रही है। दावा हकीकत से कोसो दूर है। यहां सबसे पहले तो ट्यूबवेल ही आए दिन खराब रहता है। कई बार ऐसी स्थिति निर्मित हुई कि पानी नहीं पहुंचता। इधर जो पाइप लाइन बिछाई गई है उसमें कई तकनीकी समस्या है। इसके चलते पानी चढ़ ही नहीं पाता। छुरी के लिए जो योजना बनाई गई है वह अब तक शुरू नहीं हो सकी है।

पाली नगर पंचायत
पाली में पानी की समस्या बनी हुई है। यहां पर भी ६० लीटर प्रतिदिन प्रति व्यक्तिपानी देने की बात नगर पंचायत कह रही है। रोजाना साढ़े तीन लाख लीटर पानी की सप्लाई के बाद भी नगर के लोगों तक पर्याप्त पानी नहीं पहुंच पा रहा है। ८ टैंकर के भरोसे पूरा नगर है। आम लोगों का कहना है कि ६० लीटर जिस दिन पानी मिल जाए, उतने में तो सारी समस्या ही दूर हो जाएगी। मुनगाडीह मेंं एनीकट बना दिया गया है, लेकिन वहां से पाली तक पानी कैसे आएगा इस पर काम अब तक नहीं हुआ है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned