CG Assembly Elections 2018 : पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर और वर्तमान विधायक श्यामलाल कंवर फिर हो सकते हैं आमने-सामने

- दोनों ही पार्टियों में कई और दावेदार आने से बदल भी सकता है समीकरण

By: Shiv Singh

Updated: 07 Sep 2018, 12:32 PM IST

कोरबा. पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर और वर्तमान विधायक श्यामलाल कंवर इस बार फिर से भाजपा और कांग्रेस के चेहरे हो सकते हैं, हालांकि दोनों ही पार्टियों में कई और दावेदार सामने आने से समीकरण बदलने के संकेत भी मिल रहे हैं। आदिवासी बाहुल्य विधानसभा रामपुर क्षेत्र में पिछले विधानसभा में पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर को हार का सामना करना पड़ गया था।

ननकी इस क्षेत्र से लगातार दो बार निर्वाचित होने के साथ-साथ सरकार के मंत्री भी बने। अविभाजित मध्यप्रदेश शासन में भी ननकीराम कंवर ने दो बार चुनाव जीता था। उस समय पूर्व उपमुख्यमंत्री प्यारेलाल कंवर से उनको हार का सामना भी करना पड़ा था। रामपुर विधानसभा को देखें तो बीजेपी पिछले पांच विधानसभा चुनाव में ननकीराम कंवर को ही प्रत्याशी बनाते आई है

Read More : छत्तीसगढ़ का सियासी महासंग्राम : पाली तानाखार में भाजपा तलाश रही दमदार चेहरा, तो कटघोरा में कांग्रेस चाह रही वापसी
उनकी पत्नी शंकुतला कंवर ने इसी क्षेत्र से जीत कर दो बार जिला पंचायत अध्यक्ष भी बनी। अभी सदस्य हैं। पिछली बार कांग्रेस ने प्यारेलाल कंवर के भाई श्याम लाल कंवर को टिकट दिया था। श्यामलाल कंवर ने ९११५ वोटों के साथ चुनाव जीता था। आगामी विधानसभा चुनाव में भी दोनों ही पार्टियां इन दोनों पर विश्वास जता सकती है।

70 वर्षीय बुजुर्ग ने दोनों ही पार्टियों के छुड़ाए थे पसीने
७० वर्षीय बुजर्ग भुवनेश्वर सिंह राठिया ने पिछले विधानसभा चुनाव में इन दोनों ही पार्टियों के प्रत्याशियों को जमकर चुनौती दी थी। निर्दलीय लड़े भुवनेश्वर राठिया २११२५ वोट पाए थे। ननकीराम कंवर के क्षेत्र वाले बूथों मेेंं राठिया को सबसे अधिक वोट मिले थे।

पार्टियों के प्रमुख दावेदारों पर एक नजर
भाजपा : पूर्व गृहमंत्री ननकीराम कंवर, जिला पंचायत सदस्य शंकुतला कंवर, जिला वनोपज संघ के अध्यक्ष टिकेश्वर राठिया, मंडल उपाध्यक्ष सुखबाई कंवर, जनपद अध्यक्ष रेणुका राठिया।

कांग्रेस : विधायक श्यामलाल कंवर, सरोज देवी कंवर, धनेश्वरी कंवर, बाबूलाल राठिया, सरमन सिंह कंवर, अमरजीत कुजुर, कृष्णा खैरवार।

दोनों ही पार्टियों के लिए हाथी बने नाराजगी की वजह
भाजपा हो या फिर कांग्रेस दोनों ही पार्टियों के लिए हाथी नाराजगी की वजह बन चुकी है। ग्रामीण पिछले कई दशक से हाथियों से दहशत में है। हर साल कई मौतें, फसल नुकसान झेल रहे किसान सरकार से बेहद खफा है। किसी की भी सरकार ने कभी कुछ नहीं किया। इनकी नाराजगी को दूर कर पाना प्रत्याशियों के साथ आलाकमान को भी दूर करना बड़ी चुनौती साबित होगी।
पिछली बार मिले वोटों पर एक नजर
श्यामलाल कंवर कांग्रेस ६७८६८
ननकीराम कंवर भाजपा ५७९५३
भुवनेश्वर राठिया निर्दलीय २११२५

- गृहमंत्री होने के बाद भी रामपुर विधानसभा में बहुत सारे काम नहीं हो सके थे। ऐसे कार्यों को हमने प्राथमिकता से कराया है। हाथी प्रभावित क्षेत्रों के लिए हमने कई बार सरकार के पास मांग रखी लेकिन किसी तरह का काम नहीं किया गया। यह सरकार की नाकामी है- श्यामलाल कंवर, रामपुर विधायक

- भाजपा सरकार ने गांव-गांव में पीएम आवास से लेकर धान का बोनस सहित कई बड़ी सौगात दी गई है। हमने अपने कार्यकाल में जितना काम कराया उतना काम कभी नहीं हुआ- ननकीराम कंवर, पूर्व गृहमंत्री

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned