Video- ये हैं जिले के बाल वैज्ञानिक, इनके द्वारा तैयार मॉडल को देख आप भी रह जाएंगे हतप्रभ

Shiv Singh

Publish: Sep, 17 2017 11:19:01 (IST)

Korba, Chhattisgarh, India
Video- ये हैं जिले के बाल वैज्ञानिक, इनके द्वारा तैयार मॉडल को देख आप भी रह जाएंगे हतप्रभ

किसी ने बताया कि कैसे बनाया जा सकता है घरेलू वैक्यूम क्लीनर तो कुछ ने प्रदूषण की स्थानीय समस्या से निपटने का भी तरीका बताया।

कोरबा. कहीं डिजिटल इंडिया था तो कहीं स्मार्ट विलेज। किसी ने बताया कि कैसे बनाया जा सकता है घरेलू वैक्यूम क्लीनर तो कुछ ने प्रदूषण की स्थानीय समस्या से निपटने का भी तरीका बताया। विज्ञान के रचनात्मकता को मिलाकर बाल वैज्ञानिकों ने एक से बढकर एक मॉडल तैयार किए थे। जिन्हें देख कर निर्णायक मंडल के सदस्य भी आश्चर्यचकित हो गए और वे बच्चों की प्रतिभा से प्रभावित भी हुए।

यह दृश्य था शनिवार को शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कन्या साडा में जिला स्तरीय जवाहरलाल नेहरू विज्ञान गणित एवं पर्यावरण प्रदर्शनी व पश्चिम भारत विज्ञान मेले का। इसमें छात्रों ने एक बढ़कर एक मॉडल व प्रदर्शनियों का प्रदर्शन किया। इस प्रतियोगिता में 250 बाल वैज्ञानिकों ने हिस्सा लिया जिनके द्वारा कुल ६० मॉडल तैयार किए गए थे।

इन स्कूलों के विद्यार्थियों के मॉडल रहे आकर्षक, जीते पुरस्कार- गणीतीय प्रतिरूप में प्रीतम सोनी कक्षा 12वीं हायर सेंकण्डरी स्कूल जमनीपाली, कटघोरा, डिजिटल एवं तकनीकी संसाधन में राज जायसवाल कक्षा 10 वीं हायर सेकण्डरी स्कूल परसदा पाली, पश्चिम भारत विज्ञान मेला में अनिल कक्षा 9वीं शासकीय हाई स्कूल स्याहीमुड़ी, परिवहन एवं संचार के अंतर्गत चंद्रमोहन कक्षा 10वीं हायर सेकण्डरी स्कूल कटईनार करतला।

पश्चित भारत विज्ञान मेला के ग्रुप प्रदर्शनी में स्वाती, जान्हवी एवं गु्रप कक्षा 9वीं शासकीय हाई स्कूल बलगीखार, रोल प्ले में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय तुमान पोड़ी उपरोड़ा सहित लोकनृत्य में शासकीय हाईस्कूल स्याहीमुड़ी कटघोरा और विज्ञान नाटिका में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कोरबी धतुरा पाली विजयी रहे। उपकथानक स्वास्थ्य तथा स्वस्थ्य रहना अनन्या सोनी शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जमनीपाली, संसाधन प्रबंधन एवं खाद्य सुरक्षा मनीष भार्य पूर्व माध्यमिक शाला, कटघोरा, अवशिष्ट प्रबंधन तथा जलाशयों की सुरक्षा राज राठौर शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला उतरदा, अन्य जन्मजेय शासकीय उच्चतर माध्यमिक तुमान रहे।

विज्ञान की पहुंच बढ़ी- समारोह के समापन में मुख्य अतिथि के रूप में जिला शिक्षा अधिकारी डीके कौशिक शामिल हुए। उन्होंने बाल वैज्ञानिकों का हौसला बढाते हुए कहा कि विज्ञान मॉडल हो या अन्य, कोई लक्ष्य इसे तैयार करने के लिए बेहतर प्लानिंग और मैनेजमेंट की जरूरत होती है। जिले के दूरस्थ अंचल जटगा, तुमान के स्कूलों से भी बच्चों ने इस आयोजन मे हिस्सा लिया है, जिनके मॉडल भी काबिले तारीफ थे। जिले मे विज्ञान के क्षेत्र मे काफी अच्छा कार्य हुआ है।

उद्घाटन सत्र के मुख्य अतिथि आरएमएसए के एडीपीओ एमपी सिंह रहे। विज्ञान मेले में जिला समन्वयक प्राचार्य डॉ. फरहाना अली, ब्लॉक समन्वयक कामता जायसवाल, भूपेन्द्र राठौर के अलावा सभी स्कूलों के आए लगभग 35 मार्गदर्शक शिक्षक मौजूद रहे। कार्यक्रम मे निर्णायक की भूमिका प्राचार्य विवेक लाण्डे, जयश्री माहुलीकर, टीआर भारद्वाज, मंजू तिवारी, उमा रमा, जीआर राजपूत, अरूण वैष्णव और रणधीर सिंह ने निभाई।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned