बांगों के पांच गेट खुलने के बाद दर्री डेम के भी खोले गए तीन गेट, निचली बस्तियों में अधिकारियों की दिन भर टिकी रही नजर

बांगों के पांच गेट खुलने के बाद दर्री डेम के भी खोले गए तीन गेट, निचली बस्तियों में अधिकारियों की दिन भर टिकी रही नजर

Shiv Singh | Publish: Sep, 08 2018 08:46:03 PM (IST) Korba, Chhattisgarh, India

- कोरिया के गेज और झुमका डेम का भी स्तर बढऩे की वजह से बांगो बांध में 70 हजार क्यूसेक प्रति सेकेण्ड पानी पहुंचा

कोरबा. शुक्रवार की शाम को बांगो बांध के पहले तीन गेट खोले गए। जलस्तर लगातार बढ़ता देख शनिवार की सुबह तक दो और गेटों को खोलना पड़ा। कुल पांच गेट खोले जाने से हसदेव नदी पर ४६ हजार क्यूसेक पानी प्रति सेकेण्ड छोड़ा जा रहा है। बांगो से पानी बरॉज में पहुंचने के बाद दर्री डेम के भी तीन गेट खोले गए। इधर अधिकारियों ने निचले इलाकों पर दिनभर नजर रखी गई।

पांच दिन पहले तक बांगो बांध का जलस्तर ९१ फीसदी पर ही स्थिर था। कोरबा जिले में बारिश कम होने की वजह से गेट खोले जाने की संभावना कम थी, लेकिन कोरिया जिले में बुधवार से शुरू हुई लगातार बारिश की वजह से बांगो बांध का जलस्तर बढ़ गया। शनिवार की स्थिति में बांगो बांध में कुल ९४.१४ फीसदी पानी भर चुका है। इसके स्तर को यथावथ बनाए रखने के लिए शुक्रवार की रात को जल संसाधन के अधिकारियों द्वारा उच्च अधिकारियों से अनुमति लेेने के बाद तीन गेट खोले गए। देर रात स्तर बढ़ता देख एक गेट और खोला गया।

अलसुबह तक चार गेट खोलकर पानी छोड़ा जा रहा था। सुबह फिर से एक और गेट खोला गया। कुल पांच गेट खोलकर ४६ हजार क्यूसेक पानी हसदेव नदी में डिस्चार्ज करना शुरू किया गया। रात में बांगो बांध के तीन गेट से छोड़ा गया पानी दर्री बरॉज में सुबह ६ बजे के आसपास पहुंचा, जिसकेे बाद दर्री डेम के तीन गेट को तीन फीट खोलकर हसदेव नदी में पानी छोड़ा गया। उधर बांगो से जब दो और गेट खोले गए, तब दर्री बरॉज का स्तर और बढऩे लगा। तब दर्री डेम के इन तीनों ही गेट को क्रमश: १०-१० फीट खोलकर लगभग ३९ हजार क्यूसेक पानी हसदेव नदी में छोड़ा गया।
Read More : Video Gallery : सुबह से रिमझिम बारिश के बाद दोपहर कुछ देर के लिए मौसम हो गया था सुहावना

कोरिया में दो दिन में हुई 110 एमएम बारिश बनी वजह
कोरबा से ज्यादा कोरिया जिले की बारिश पर हसदेव नदी का जल स्तर टिका हुआ है। कोरिया में पिछले दो दिन के भीतर कुल ११० एमएम बारिश होने की वजह से हसेदव नदी में पानी तेजी से पहुंचा। कोरिया के गेज और झुमका डेम का भी स्तर बढऩे की वजह से बांगो बांध में ७० हजार क्यूसेक प्रति सेकेण्ड पानी पहुंचा।

ऐरिगेशन के सीई पहुंचे, बांगो व दर्री डेम का किया अवलोकन
जल संसाधन विभाग के सीई अजय सोमावार भी सुबह बांगो बांध पहुंचे। बांगो के अधिकारियों के साथ बांध का निरीक्षण किया गया। जलस्तर की रिपोर्ट देखने के बाद दोपहर दर्री डेम के निकले। दर्री डेम में शाम को बरॉज से छोड़े जा रहे पानी की रिपोर्ट ली। उनके साथ ईई के एल प्रसाद, उपअभियंता नयनरंजन चौधरी समेत अन्य अधिकारी भी उपस्थित थे।

मोहल्ले में लोगों की रात की नींद उड़ी, पार्षद भी रहे अलर्ट
शुक्रवार की शाम को नदी किनारे रहने वाले लोगों को मुनादी करा दी गई थी। ऐसे में रातभर लोगों की नींद उड़ गई थी। राताखार, सर्वमंगला नगर, मोतीसागरपारा, बैंकुठनगर समेत अन्य बस्ती के लोग दिनभर नदी के स्तर पर नजर बनाएं रखे। पार्षद रवि चंदेल समेत कई पार्षदों ने भी लोगों के साथ नदी का स्तर देख लोगों को मुहाने से दूर रहने को कहा गया।

नदी और बस्ती के बीच फासला कम बचा, खतरा अभी टला नहीं
हसदेव नदी में पानी छोड़े जाने के बाद अभी तक किसी मोहल्ले या फिर गांव में पानी घुसने की शिकायत नहीं आई है, लेकिन नदी के मुहाने और बस्ती के बीच कई जगह १० से १५ फीट का ही फासला बचा है। ऐसे में अभी खतरा टला नहीं है। अगर कोरिया में बारिश और होती है, तो फिर से बांगो बांध का स्तर फिर से बढ़ेगा। पहले से बांध का स्तर ९६ फीसदी तक जा पहुंचा है। मानसून में अभी एक माह का समय और है। ऐसे में बाढ़ की स्थिति कभी भी बन सकती है।

25 परिवारों को एहतिहात के तौर पर ठहराया गया सद्भावना भवन में
प्रशासन द्वारा बांगो बांध के आसपास बस्ती में रहने वाले २५ परिवारों को पोड़ीउपरोड़ा के सद्भावना भवन में ठहराया गया। शुक्रवार की देर शाम ही बांगो बांध के गेट खोलने से पहले ही इन परिवारों को शिफ्ट कर दिया गया था। जब तक बांध से पानी छोडऩे की स्थिति बनी रहेगी। तब तक सुरक्षा की दृष्ठिकोण से परिवारों को सद्भावना भवन में रखा जाएगा। गेट बंद किए जाने के बाद वापस जाने दे दिया जाएगा।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned