हॉस्टल में छात्र के साथ अप्राकृतिक कृत्य, शिकायत डिब्बे में पत्र डालकर दर्द किया बयां

Unnatural act : आरोपी छात्र के खिलाफ पुलिस ने दर्ज किया केस, हॉस्टल में सुरक्षा को लेकर बड़ी लापरवाही आई सामने

By: Vasudev Yadav

Published: 19 Mar 2020, 12:13 PM IST

कोरबा. हॉस्टल में छात्र के साथ अप्राकृतिक कृत्य का मामला सामने आया है। छात्र ने किसी भी शिक्षक के साथ दर्द बयां करना उचित नहीं समझा। इसलिए अपने दर्द को एक पत्र में बयां कर उसे शिकायत पेटी में डाल दिया। छात्र द्वारा पीड़ा का इस तरह बयां करना शिक्षक व छात्र के बीच दूरियां को भी उजागर करता है।

लैंगिक अपराध से बालकों का संरक्षण अधिनियम से जुड़ी शिकायत के लिए स्कूल में एक शिकायत डिब्बा लगाया गया है। लंबे समय बाद डिब्बे को खोलने पर एक पत्र मिला। पत्र को पढ़ते ही प्रबंधन के बीच हड़कंप मच गया। पत्र में एक सातवीं कक्षा के छात्र ने अपने साथ अप्राकृतिक कृत्य का दर्द बयां किया है। इसकी शिकायत कटघोरा थाने में की गई। कटघोरा पुलिस ने आरोपी छात्र के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

Read More: शर्मनाक: युवक को देख 55 साल के सीनियर की बिगड़ी नियत,6 वर्षों तक बनाया अप्राकृतिक संबंध
हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करने वाले एक छात्र से अप्राकृतिक कृत्य के मामले में पुलिस ने दूसरे आरोपी पर केस दर्ज किया है। आरोपी छात्र भी हॉस्टल में रहकर पढ़ाई करता है। प्रारंभिक जांच के आधार पर पुलिस ने बताया कि केस विद्यालय के प्राचार्य की रिपोर्ट पर दर्ज की गई है। इसमें कहा गया है कि विद्यालय परिसर में लगाई गई लैंगिक अपराध से बालकों का संरक्षण अधिनियम से संबंधित एक बाक्स में शिकायत मिली थी। इसमें कक्षा सातवीं में पढऩे वाले एक छात्र ने आठवी कक्षा के छात्र पर अप्राकृतिक कृत्य का आरोप लगाया था। विद्यालय प्रबंधन ने घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस केस दर्जकर जांच कर रही है। विद्यालय प्रबंधन ने आरोपी छात्र के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है।
Read More: युवक ने ऐप डाउनलोड कर कंपनी से लिया लोन, मूलधन से ज्यादा चुकाया, ठगों ने रिश्तेदारों को भी किया परेशान

वार्डन या फिर प्राचार्य पर भरोसा नहीं, इसलिए पत्र डिब्बे में डाला
छात्र के साथ जब यह घटना हुई तो वह सीधे आकर वार्डन या फिर प्राचार्य से जानकारी दे सकता था, लेकिन उसने ऐसा ना करते हुए शिकायत पत्र में जानकारी दी। ऐसे में साफ है कि छात्रों को हॉस्टल प्रबंधन पर भरोसा नहीं था। हॉस्टल के अंदर क्या चल रहा है इस पर भी नजर नहीं रहती होगी।

अभिभावकों का टूटा भरोसा, प्रबंधन की गंभीर लापरवाही
दूरदराज क्षेत्रों से अभिभावक भरोसे के साथ इस स्कूल में आवासीय शिक्षा के लिए भेजते हैं। स्कूल में पुख्ता सुरक्षा उपाय के बीच इस तरह की गंभीर लापरवाही से अभिभावकों का भरोसा टूट गया। प्रबंधन की गंभीर लापरवाही सामने आयी है। हॉस्टल जहां बच्चों पर हमेशा नजर रहती है। इस बीच ऐसी घटना ने सबको झकझोर कर रख दिया है। बुधवार को काफी परिजन बच्चों को लेने पहुंचे थे।

कार्रवाई के बजाए मामले को दबाने में जुटा प्रबंधन
जिम्मेदार कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई करने की बजाए प्रबंधन दबाने में जुट गया है। घटना की जानकारी मिलने के 48 घंटे बाद भी प्रबंधन ने इसकी जानकारी मुख्यालय को नहीं दी है। किसकी ड्यूटी थी। किस समय यह घटना हुई। किस जगह पर हुई। इसकी तस्दीक नहीं की गई है। पत्रिका से बातचीत पर प्राचार्य ने कहा कि मामला विचाराधीन है, जांच की जा रही है। इसके आगे मैं कुछ नहीं बता सकता।

Vasudev Yadav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned