एमआईसी सदस्यों ने उठायी समस्याएं, जवाब से असंतुष्ट होकर किया हंगामा, आयुक्त निकले बाहर

एमआईसी सदस्यों ने उठायी समस्याएं, जवाब से असंतुष्ट होकर किया हंगामा, आयुक्त निकले बाहर

Shiv Singh | Publish: Sep, 06 2018 11:57:35 PM (IST) Korba, Chhattisgarh, India

एमआईसी बैठक: सदस्यों ने अफसरों को लिया निशाने पर

कोरबा. एमआईसी बैठक में सदस्यों ने निगम आयुक्त के सामने समस्याओं की झड़ी लगा दी। सदस्यों ने आरोप लगाया कि पूरा महकमा डेढ़ माह से मोबाइल बांट रहा है, शहर की व्यवस्था पर अधिकारियों पर ध्यान नहीं है। अफसर सरकार के निर्देश पर काम कर रहे हैं। इधर आयुक्त ने भी पलटवार करते हुए कहा कि यह योजना भी सरकार की है और लाभान्वित भी शहरवासी ही है। जो भी समस्या है उस पर जल्द काम होगा। हंगाम बढ़ता देख आयुक्त बैठक से बाहर चले गए।
गुरुवार की शाम को साकेत भवन के सभागृह में एमआईसी की बैठक रखी गई थी। महापौर, आयुक्त, सभी एमआईसी सदस्य व अधिकारी बैठक में उपस्थित थे। बैठक में एमआईसी सदस्यों ने बारी-बारी से अपनी-अपनी समस्या बतानी शुरू कर दी। एमआईसी सदस्यों का कहना था कि शहर के मुख्य मार्गों की हर सड़क पर कीचड़ और धुल है। अधिकारी हर रोज उसी सड़क से गुजरते हैं लेकिन मरम्मत को लेकर किसी का ध्यान नहीं है। सफाई कहां हो रही है श्रमिक कहां लगाए गए हैं। इसका भी कोई अता-पता नहीं है। शहर में प्रस्तावित बड़े निर्माण कार्य की चाल सुस्त है। समय अवधि पूरी होने के बाद भी काम नहीं किया जा रहा है। पूरा निगम अमला डेढ़ माह से मोबाइल बांट रहा है। अगर ये अमला फील्ड पर उतरें तब जाकर समस्या का हल निकलेगा। एमआईसी सदस्यों ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा के इशारे पर जानबुझकर काम रोका जा रहा है। अगले महीने आचार संहिता लग जाएगा। उसके बाद तो फिर काम ना करने का बहाना मिल जाएगा। ऐसे में जनता को कब राहत मिलेगी। सदस्यों में दिनेश सोनी, इस्माईल कुरैशी, सीताराम चौहान, सुनीता राठौर, रामगोपाल यादव, रामगोपाल कुर्रे, विनीत एक्का सहित अन्य शामिल थे।
इस कार्यकाल में पहली बार हंगामेदार बैठक
मौजूदा कार्यकाल में पहली बार एमआईसी की बैठक में इतना हंगामा हुआ। अपने ही पार्टी की निगम मेंं सत्ता होने के बाद भी कांग्रेसी नेताओं ने शहर में काम नहीं होने का आरोप लगाकर अफसरों को घेरा। अब तक सिर्फ विपक्षी पार्षद ही अधिकारियों को घेरते थे। चुनाव नजदीक है, नेताओं को कामकाज का हिसाब जनता के सामने रखना पड़ेगा। जनता के गुस्से का शिकार ना होना पड़े लिहाजा अब एमआईसी सदस्य कामकाज को लेकर मुखर होने लगे हैं।

स्ट्रीट लाइट को लेकर भी जमकर हंगामा
स्ट्रीट लाइटों को लेकर भी एमआईसी सदस्यों ने जमकर हंगामा किया। सदस्यों ने कहा कि ईईसीएल कंपनी के पास गिनती के कर्मचारी है। शहर में जगह-जगह स्ट्रीट लाइट खराब पड़ी हैं और अंधेरा छाया हुआ। कंपनी के कर्मचारी बारिश का बहाना बताकर काम नहीं किया जा रहा है। अधिकारियों से शिकायत करने के बाद भी कोई नहीं सुनता। इसपर आयुक्त ने बिजली विभाग के इंजीनियर विपिन मिश्रा को बैठक में जमकर फटकार लगाई। यहां तक की सस्पेंड करने की चेतावनी भी दी। इस पर एमआईसी सदस्यों ने कहा कि अधिकारियों को संसाधन व कर्मचारी दिया जाए ताकि काम में आसानी हो।
- एमआईसी सदस्यों ने बैठक में अपनी समस्या बताई है। उस पर जल्द काम होगा। रही बात उनके आरोपों की तो स्काई से लेकर पेंशन योजना भी शासकीय है और लाभान्वित भी शहर के ही है। सीमित संसाधन के बीच सभी कार्यों को कराया जा रहा है।
रणबीर शर्मा, आयुक्त नगर निगम कोरबा

Ad Block is Banned