scriptwomen officers with police to investigate crime related to woman | महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच के लिए पुलिस के पास महिला अधिकारियों की कमी | Patrika News

महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच के लिए पुलिस के पास महिला अधिकारियों की कमी

बच्चों और महिलाओं से संबंधित अपराध समाज की मूल समस्या बनती जा रही है। यौन हमला, उत्पीड़न, छेड़छाड़ और दुष्कर्म जैसी घटनाएं समाज के सामने आ रही हैं। इसकी रोकथाम में बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली पुलिस साधन और संसाधन दोनों की कमी से जूझ रही है।

कोरबा

Published: June 07, 2022 04:50:42 pm

बच्चों और महिलाओं से संबंधित अपराध रूक इसके लिए समाज में जागरुता के साथ- साथ कानून की जानकारी होना आवश्यक है। महिला और बच्चों से संबंधित अपराधिक घटना होने पर सबसे पहले पीड़ित पक्ष या परिवार के सदस्य न्याय की आस लिए पुलिस के पास पहुंचते हैं। घटना की जानकारी पुलिस को दी जाती है। बयान दर्ज करने के बाद आगे की कानूनी प्रक्रिया शुरू होती है और कोर्ट कचहरी तक जाती है।

महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच के लिए पुलिस के पास महिला अधिकारियों की कमी
महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच के लिए पुलिस के पास महिला अधिकारियों की कमी


लेकिन आजकल कोरबा पुलिस महिला विवेचकों की कमी से जूझ रही है। हालत कितने गंभीर है? इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कटघोरा डिविजन में कटघोरा, पाली, पसान और बांगो थाना है। कोरबी चौकी और चैतमा में पुलिस सहायता केन्द्र है। लेकिन पसान, पाली या बागो थाना में बच्चों और महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच शुरू करने के लिए कोई महिला विवेचक नहीं है। तीनों थानों में आने वाली महिला और बच्चों से संबंधित शिकायतों को प्रारंभिक जांच के लिए कटघोरा में तैनात एक महिला हवलदार के पास भेजा जाता है। या कटघोरा में महिला हवलदार के अवकाश पर होने से पीड़ित महिला या बच्चे को लेकर पुलिस दर्री डिविजन के थानों से सम्पर्क कर बयान दर्ज कराती है।


बयान दर्ज करने में गुजर जाता है दिनभर का समय
मान लीजिए पसान या बांगो थाना क्षेत्र में किसी महिला से संबंधित दुष्कर्म या छेड़छाड़ की घटना होती है तो वह गांव से चलकर थाना पहुंचती है। थाना में महिला विवेचक नहीं होने से दूसरे स्टॉफ को घटना की जानकारी दी जाती है। थानेदार मोबाइल फोन पर एक महिला विवेचक की तलाश करता है ताकि पीड़ित महिला का कथन या बयान दर्ज कराई जा सके। इसके लिए पुलिस पीड़ित महिला को लेकर उस थाने में पहुंचती है, जहां महिला विवेचक होती है। इस कार्य में कई घंटे का वक्त आने जाने में ही गुजर जाता है। इससे पीड़ित महिला या उसका परिवार मानसिक तौर पर कई बार परेशान होता है।


जांच गंभीरता से हो इसलिए हर थाने में महिला उपनिरीक्षण या सहायक उपनिरीक्षक का होना जरुरी
महिलाओं से संबंधित अपराध की जांच गंभीरता से हो इसके लिए हर थाने में एक महिला उप निरीक्षक या सहायक उप निरीक्षक या सहायक उप निरीक्षक की पदस्थापना जरुरी है। ताकि महिला विवेचक घटना से संबंधित पूरी जानकारी हासिल कर सके और आरोपियों पर सख्त कानूनी कार्रवाई कर सके। लेकिन कोरबा जिले में महिला अधिकारियों की कमी बनी हुई है।

जिले में एक भी महिला उप निरीक्षक नहीं
कोरबा जिले में एक भी महिला उप निरीक्षक की पदस्थापना पुलिस मुख्यालय की ओर से नहीं हुई है। कोरबा, दर्री और कटघोरा डिविजन में एक एक सहायक उप निरीक्षकों की तैनाती पुलिस अधीक्षक की ओर से की गई है। इसके अलावा कोरबा जिले में आठ महिला हवलदार हैं। जबकि थानों की संख्या 15 है।

काम का दबाव अधिक, सही तरीके से बयान दर्ज करने में परेशानी
आधी आबादी से संबंधित अपराध की जांच के लिए पुलिस के पास महिला विवेचक नहीं है। जो हैं, उनके पास पहले से केस डायरी अधिक है। इस स्थिति में एक थाने में तैनात महिला विवेचक दूसरे थाने से पहुंची पीड़ित महिलाओं का बयान दर्ज करने से टाल मटोल का रवैया अपनाती है। कई बार ऐसे मौके आए हैं, जब बयान दर्ज कराने के लिए थानेदार या डिप्टी एसपी रैंक के अधिकारियों को दखल देना पड़ता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

नुपूर शर्मा को सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- आपके बयान के चलते हुई उदयपुर जैसी घटना, पूरे देश से टीवी पर मांगे माफीउदयपुर घटना की जिम्मेदार, टीवी पर माफी, सस्ता प्रचार...10 बिंदुओं में जानें Nupur Sharma को Supreme Court ने क्या-क्या कहा?Maharashtra Politics: शिंदे गुट को सुप्रीम कोर्ट से बड़ी राहत, शिवसेना की अर्जी पर फ्लोर टेस्ट पर रोक लगाने से किया इनकारMumbai Rains: मुंबई में भारी बारिश के चलते जनजीवन पर असर, कई इलाकों में भरा पानी; IMD ने जारी किया ऑरेंज अलर्टहैदराबाद में आज से शुरू हो रही BJP की कार्यकारिणी बैठक, प्रधानमंत्री मोदी कल होगें शामिल, जानिए क्या है बैठक का मुख्य एजेंडाआज से प्रॉपर्टी टैक्स, होम लोन सहित कई अन्य नियमों में हुए बदलाव, जानिए आपके जेब में क्या पड़ेगा असरकेंद्रीय मंत्री आर के सिंह का बड़ा बयान, सिर काटने वाले आतंकियों के खिलाफ बनेगा UAPA की तरह सख्त कानून!LPG Price 1 July: एलपीजी सिलेंडर हुआ सस्ता, आज से 198 रुपए कम हो गए दाम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.