केरा में नाबालिगों से कराया जा रहा बोरा सिलने का कार्य, मंडी प्रभारी पर कार्यवाही करने कांप रहे अधिकारियों के हाथ

- नाबालिग बच्चों से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनको इस कार्य के लिए एक रुपए प्रति बोरा सफाई के और 40 पैसे सिलाई प्रदान की जाती है

By: Shiv Singh

Published: 19 Jan 2019, 12:43 PM IST

शिवरीनारायण. नवागढ़ ब्लॉक अंतर्गत केरा सहकारी समिति धान मंडी में भारी अनिमितता बरती जा रही है। धान मंडी प्रभारी नियमों तो ताक में रख के धान मंडी में नाबालिक बच्चों से काम करा रहे हंै। जब मीडिया की टीम धान मंडी केरा पहुंची तो लगभग 8 से 10 बच्चों से धान के बोरे की सिलाई और धान बोरे की सफाई का काम कर रहे थे। जब उन नाबालिग बच्चों से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनको इस कार्य के लिए एक रुपए प्रति बोरा सफाई के और 40 पैसे सिलाई प्रदान की जाती है। कुछ बच्चे स्कूल ड्रेस में ही खरीदी केंद्र में काम करते नजर आए।

बच्चों के धान खरीदी केंद्र में काम करने और खरीदी केंद्र के कर्मचारी द्वारा एक रुपए प्रति बोरा देने की बात जब मीडिया के कैमरे में कैद हुई तो खरीदी प्रभारी गोलमोल जवाब देते नजर आये। वहीं इस मामले में सहकारी बैंक के शाखा प्रबंधक ने जांच करने की बात कह कर अपना पल्ला झाड़ लिया। लेकिन आज तक मंडी प्रभारी पर किसी प्रकार की कार्यवाही नहीं की गई। जो साफ दर्शाता है कि कहीं न कहीं अधिकारी अपने चहेते मंडी प्रभारी को बचाने में लगे हैं।

Read More : आपदाओं को झेला, पीढिय़ों को सिखाया क, ख, ग... 100 साल का हुआ मिशन प्रायमरी स्कूल

केरा धान मंडी का प्रभारी शिव शंकर साहू द्वारा नाबालिग से काम लेने के साथ धान मंडी में जम कर अनिमितता बरती जा रही है। कुछ किसानों ने आरोप भी लगाया है कि धान तौल में हमालों द्वारा ज्यादा तौल किया जा रहा है। इतनी शिकायत के बाद भी अधिकारी इस धान केंद्र में न तो जांच के लिए पहुंचे हैं और न किसी प्रकार की कार्यवाही आज पर्यंत तक हुई है। जिसके कारण मंडी केंद्र प्रभारी को मनोबल सातवें आसमान पर है। नाबालिग बच्चों से काम लेने के मामले में प्रशासन मंडी प्रभारी पर क्या कार्यवाही करेगा देखने वाली बात होगी।

-मामले की जांच कराई जाएगी और जिम्मेदारों पर कार्रवाई की जाएगी - रामदयाल ठाकुर, तहसीलदार

Shiv Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned