scriptBicycle distribution: 2 year break of bicycle distribution amid corona | कोरोना ने साइकिल वितरण पर भी लगाया 2 साल तक ब्रेक, अब बेटियों को स्कूल जाने में हो रही परेशानी | Patrika News

कोरोना ने साइकिल वितरण पर भी लगाया 2 साल तक ब्रेक, अब बेटियों को स्कूल जाने में हो रही परेशानी

Bicycle distribution: मिडिल स्कूल पास कर हाईस्कूल (High School) में दाखिला लेने वाली छात्राओं को दिया जाता है सरस्वती साइकिल योजना (Saraswati cycle scheme) का लाभ, 2 साल तक साइकिल वितरण नहीं होने के बाद इस वर्ष शासन से मिला आवंटन का आदेश, वर्ष 2020-21 व 2021-22 की एक साथ मिलेगी साइकिल

कोरीया

Updated: February 21, 2022 02:55:14 pm

योगेश चंद्रा.
बैकुंठपुर. Bicycle distribution: कोरोना काल में लगभग हर चीज की रफ्तार पर ब्रेक लग गया है, इससे हर वर्ग प्रभावित रहा है। अब धीरे-धीरे सभी व्यवस्थाएं पटरी पर लौटने लगी हैं। कोरोना संक्रमण के कारण छत्तीसगढ़ सरकार की सरस्वती साइकिल योजना में भी लेटलतीफी हुई है। पिछले 2 साल से सरकारी स्कूलों (Government schools) में पढऩे वाली बेटियों को साइकिल नहीं मिली है। 2 वर्ष बाद इस साल शासन स्तर से आवंटन प्राप्त है, इसके बाद शिक्षा विभाग ने साइकिल वितरित (Cycle distribution) करने का आदेश जारी कर दिया है।
Bicycle distribution
Saraswati Bicycle scheme

छत्तीसगढ़ शासन ने बेटियों को शिक्षा के प्रति प्रोत्साहित करने सरस्वती साइकिल योजना लागू कर रखी है। इसके तहत सरकारी व अनुदान हाईस्कूल में दाखिला लेने वाली बीपीएल, एसटी-एससी की छात्राओं को नि:शुल्क साइकिल देने का प्रावधान है। कोरोना संक्रमण के कारण सरस्वती साइकिल योजना के क्रियान्वयन में भी अड़ंगा लग गया है।
पिछले 2 साल से 8वीं पास कर हाईस्कूल में दाखिला लेने वाली बेटियों को साइकिल नहीं मिली है। अब जाकर शासन स्तर से आवंटन प्राप्त हुआ है तो शिक्षा विभाग ने भी आदेश जारी कर दिया है। छात्राओं को एक साथ दो साल की साइकिल मिलेगी। हालांकि साइकिल वितरण करते तक मौजूद शिक्षण सत्र समाप्त हो जाएगा।

वर्ष 2020-21 में 4226 छात्राएं चिह्नित
शिक्षण सत्र 2020-21 में जिले के सरकारी व अनुदान स्कूलों के पढऩे वाली चिह्नित 4226 छात्राएं हैं। पिछले दो साल से सरस्वती साइकिल योजना (Saraswati Cycle Scheme) का लाभ नहीं मिला है। इसका मुख्य कारण कोरोना संक्रमण बताया जा रहा है। वर्ष 2019-20 में इस योजना का लाभ मिला था। वहीं वर्ष 2020-21 व 2021-22 में साइकिल वितरण पर ब्रेक लगा हुआ है।
यह भी पढ़ें
10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षाओं को लेकर हेल्पलाइन नंबर जारी, बस एक कॉल पर विद्यार्थियों की टेंशन होगी दूर


डेढ़ साल बाद स्कूल खुले हैं, साइकिल की जरूरत महसूस हुई
कोरोना संक्रमण के कारण पिछले डेढ़ साल से शिक्षण संस्थान बंद रखे गए थे। मौजूद शिक्षण सत्र में के बीच में स्कूल खोलने की अनुमति मिली है। इससे ग्रामीण अंचल से पढऩे आने वाली बेटियों को साइकिल की जरूरत महसूस होने लगी है। क्योंकि कुछ छात्राएं सुबह अपने घर से स्कूल जाने के लिए 1 घंटे पहले निकलती हैं।
कई छात्राएंं लगभग 4 से 6 किलोमीटर पैदल चल स्कूल पहुंचती है। स्कूल आने जाने में थकने से पढ़ाई प्रभावित होने लगी है। वहीं रोड किनारे गांव में रहने वाली कुछ छात्राएं बस से स्कूल आना-जाना करती हैं। इससे कई बार बस नही मिलने के कारण स्कूल भी नहीं पहुंच पाती हैं।
यह भी पढ़ें
इस महाशिवरात्रि बन रहा है पंचग्रही योग, इस दिन चमकेगा इन 5 राशि वाले लोगों का भाग्य


कोरोना संक्रमण के कारण हुआ लेट
कोरोना संक्रमण के कारण योजना में लेटलतीफी हुई है। मामले में शासन स्तर से सत्र 2020-21 व 2021-22 का आवंटन प्राप्त हुआ है। इसका आदेश जारी कर दिया गया है। साइकिल मिलने के बाद जल्द वितरण किया जाएगा।
संजय गुप्ता, जिला शिक्षा अधिकारी कोरिया

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करारOmicron Subvariant BA.4 Case: भारत में मिला ओमिक्रोन BA.4 का पहला केस, जानिए कितना खतरनाक है ये वैरियंटकांग्रेस के चिंतन शिविर को प्रशांत किशोर ने बताया फेल, कहा- कुछ हासिल नहीं होगाउड़ान भरते ही बीच हवा में बंद हो गया Air India प्लेन का इंजन, पायलट को करानी पड़ी इमरजेंसी लैंडिंगकोहली नहीं सहवाग की नज़र में ये है असल कप्तान, बोले – जो टीम बनाता है वह होता है नंबर 1आम लोग तो छोड़िए साहब... Anand Mahindra को भी है अपनी XUV700 की डिलीवरी का इंतज़ार! बताई ये वजह
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.