जघन्य वारदात: प्रेमिका के बेटे को डूबा-डूबाकर मार डाला, लाश दफन कर बाहर निकाला, फिर किया ये काम

Brutal murder; साढ़े आठ साल के बच्चे का अपहरण कर हत्या (Kidnap and murder) के मामले का पुलिस ने किया खुलासा, 3 नाबालिगों का भी लिया साथ, सभी भेजे गए जेल (Jail)

By: rampravesh vishwakarma

Published: 17 Nov 2020, 11:35 AM IST

मनेंद्रगढ़. दीपावली (Diwali) के एक दिन पहले की शाम को साढ़े 8 साले के बच्चे का अपहरण कर हत्या (Kidnap and murder) करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है।

दरअसल युवक ने अपने प्रेमिका के बेटे को पानी में डूबा-डूबाकर मार डाला (Brutal murder) फिर शव को दफन कर दिया। पुलिस को गुमराह करने शव को फिर बाहर निकाला और एक जानवर मारकर गाड़ दिया।

फिर बच्चे का शव अपने 3 नाबालिग दोस्तों के साथ घटनास्थल से 1 किलोमीटर दूर दफन कर दिया। प्रेमिका (Girlfriend) द्वारा साथ रहने से इनकार करने पर आरोपी ने ये कदम उठाया। मामले में पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।


कोरिया एसपी सीएम सिंह व एएसपी पंकज शुक्ला ने सोमवार को मनेंद्रगढ़ में प्रेसवार्ता कर बताया कि छप्पन दफाई खोंगापानी निवासी राकेश चौधरी ने अपने पुत्र ऋषि चौधरी उर्फ चरका (8 साल 5 माह) के अचानक लापता होने की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। उसने पुलिस को बताया कि 13 नवंबर की शाम करीब 6 बजे से उसका पुत्र लापता (Missing) है।

मामले में धारा 363 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। मामले को गंभीरता से लेकर झगराखांड़, मनेंद्रगढ़ थाना, चौकी कोड़ा व सहायता केंद्र खोंगापानी की अलग-अलग टीम बनाई गई थी।

इसी बीच पुलिस ने आरोपी बबलू यादव को हिरासत में लेकर कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बच्चे की हत्या कर शव दफन करने की बात स्वीकार कर ली।


इस कारण की हत्या
आरोपी ने बताया कि 7-8 महीने पहले वह एक महिला (Marriade girlfriend) को भगाकर ले गया था। उसके बाद महिला ने उसके साथ रहने से इनकार कर दिया। वह पति व बच्चे के पास लौटना चाहती थी, इसलिए वह अपने मायके में रह रही थी। इसी बीच महिला के पति व बच्चे से उसकी बातचीत शुरू हो गई।

जघन्य वारदात: प्रेमिका के बेटे को डूबा-डूबाकर मार डाला, लाश दफन कर बाहर निकाला, फिर किया ये काम

पति भी महिला को रखने को तैयार था। आरोपी (Boyfriend) इस बात से नाराज था। वह प्रेमिका के बेटे व उसके भाई को अपने पास मोबाइल दिखाने बुलाया करता था।

साथ ही मृतक के एक नाबालिग रिश्तेदार को पैसे का लालच देकर अपने पास बुलाकर जान पहचान बढ़ाता रहा। घटना तिथि को एक नाबालिग आरोपी को बालक ऋषि चौधरी को लाने के लिए बोला और बाइक में बैठाकर ईंट भ_े में ले गया था।


पानी में डूबा-डूबाकर मार डाला
ईंट भ_े के पास आरोपी ने बच्चे को पानी में डूबा-डूबा कर हत्या (Murder) कर दी। वारदात के बाद भ_े के पास नाली में शव को डालकर घास व मिट्टी से ढक दिया था। आरोपी द्वारा स्वीकार कर लिए जाने के बाद पुलिस ने मुख्य आरोपी बबलू सहित 3 नाबालिग को गिरफ्तार किया है।

आरोपियों के खिलाफ धारा 366, 302, 120बी, 201, 34 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर उन्हें जेल भेज दिया गया है। कार्रवाई में थाना प्रभारी विजय सिंह, थाना प्रभारी सचिन सिंह, एएसआई धनंजय सिंह, संदीप बागीस, आशीष मिश्रा, प्रिंस राय, राजेश मिश्रा, पुरुषोत्तम राय सहित अन्य शामिल थे।


दीपावली की रात शव की जगह सुकर दफनाया
एसपी सिंह ने बताया कि आरोपी बबलू को वारदात (Murder case) के खुलने का डर था। इसलिए दीपावली के दिन शातिर 2 नाबालिग दोस्त को बुलाया और बच्चे के शव को प्लास्टिक के सीमेंट बोरी में भरकर सहवानी टोला मशकूर तालाब (घटना स्थल से एक किलोमीटर दूर) के पास नीम पेड़ के नीचे दफना (Buried) दिया था। मामले में पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर कार्यपालिक दण्डाधिकारी की मौजूदगी में शव को बाहर निकाला।

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned