गौरघाट जलप्रपात में डूबे युवक का तीसरे दिन मिला शव, अंडरवाटर कैमरे से लैस बिलासपुर की टीम की ली गई मदद

Drowned in waterfall: कोरिया जिले के सोनहत स्थित गौरघाट जलप्रपात (Gaurghat waterfall) में रविवार की दोपहर वालीबॉल खेलने के दौरान डूब गया था युवक, एसडीआरएफ (SDRF) की 35 सदस्यीय टीम ने किया रेस्क्यू ऑपरेशन, - बिलासपुर-अंबिकापुर व कोरिया की टीम को मिली सफलता

By: rampravesh vishwakarma

Updated: 05 Jan 2021, 11:32 PM IST

बैकुंठपुर. सोनहत के प्रसिद्ध जलप्रपात गौरघाट (Gaurghat waterfall) में डूबे युवक का शव मंगलवार को बरामद कर लिया गया है। ज्वाइंट रेस्क्यू ऑपरेशन में बिलासपुर, अंबिकापुर व कोरिया की 35 सदस्यीय टीम को तीसरे दिन पत्थर के बीच फंसे युवक के शव को बाहर निकालने में सफलता मिली।

होमगार्ड कमांडेंट कोरिया एसएन बोरवणकर, सरगुजा कमांडेंट एसके कठौतिया, सब इंस्पेक्टर दीपेंद्र सिंह के नेतृत्व में 35 सदस्यीय टीम मंगलवार की सुबह से गौरघाट में रेस्क्यू अभियान (Resque campaign) चलाया। इसमें एसडीआएफ बिलासपुर से अंडरवाटर (Under water) कैमरे से लैस 5 सहित कोरिया-सरगुजा की टीम पहुंची थी।

इस दौरान जलप्रपात में कई घंटे तलाश करने के बाद पत्थर के नीचे युवक का शव फंसा मिला। रेस्क्यू टीम ने सुबह करीब 11.30 बजे शव को बाहर निकालकर सौंप दिया।


गौरतलब है कि 3 जनवरी 2021 को ग्राम पटना नावापारा निवासी अभय पाण्डेय पिता अशोक पाण्डेय (22) सहित करीब छह-आठ युवक पिकनिक मनाने सोनहत ब्लॉक के गौरघाट जलप्रपात गए थे। इस दौरान जलप्रपात के नीचे उतरकर सभी युवक नदी के बीच में घुटनेभर पानी में रेतीली जगह पर वॉलीबॉल (Volley ball) खेल रहे थे।

गौरघाट जलप्रपात में डूबे युवक का तीसरे दिन मिला शव, अंडरवाटर कैमरे से लैस बिलासपुर की टीम की ली गई मदद

अचानक खेलते हुए एक युवक ने वालीबॉल को जोर से मारा और वॉलीबॉल सीधे पानी में चला गया था। अभय वॉलीबॉल को निकालने पानी में घुसा और गहरे पानी में डूब गया था। घटना दोपहर करीब 12 बजे हुई थी।

मामले की सूचना मिलने के बाद होमगार्ड जिला कमांडेंट बोरवणकर, सब इंस्पेक्टर दीपेंद्र के नेतृत्व में इमरजेंसी सर्विसेस की टीम पहुंची और रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया, लेकिन युवक के शव का पता नहीं चल पाया था। घटना के बाद नगर सेना (Home guard) की एक टुकड़ी रविवार रात को अंबिकापुर एसडीआरएफ की टीम को लेने गई और सोमवार को दोबारा कोरिया-सरगुजा की संयुक्त टीम ने दिनभर रेस्क्यू अभियान चलाया।

बावजूद युवक के शव को ढंूढने में सफलता नहीं मिली थी। घटना के तीसरे दिन 3 जिले कोरिया, बिलासपुर व सरगुजा टीम की ज्वाइंट ऑपरेशन से डेड बॉडी निकाला गया। मामले में संसदीय सचिव अंबिका सिंहदेव ने कलक्टर एसएन राठौर को गोताखोर की टीम बुलाने निर्देश दिए थे।


गौरघाट में पहले घटनाएं हो चुकी है, डूबने से दो की हुई थी मौत
सोनहत विकासखण्ड के प्रसिद्ध जलप्रपात गौरघाट में वर्ष 2012 में पिकनिक मनाते समय डूबने से दो लोगों की मौत हो चुकी है। उस समय भी एसइसीएल रेस्क्यू व कोरबा-बांगो गोताखोर की मदद ली गई थी। लेकिन किसी प्रकार की सफलता नहीं मिली थी।

मामले में स्थानीय जलाशय के लिए तैनात टीम की मदद से दुर्घटना के तीसरे दिन दोनों शव को बरामद किया गया था। बावजूद स्थानीय प्रशासन द्वारा पिकनिक स्पॉट पर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं किए गए हैं। वहीं कुछ महीने पहले कोटाडोल थाना रमदहा जलप्रपात में एक युवक के डूबने से मौत हुई थी। (Drowned in waterfall)

गौरघाट जलप्रपात में डूबे युवक का तीसरे दिन मिला शव, अंडरवाटर कैमरे से लैस बिलासपुर की टीम की ली गई मदद

कार्यपालिक मजिस्ट्रेट बोले- और बड़ा हादसा हो सकता था
गौरघाट जलप्रपात में निगरानी व शांति व्यवस्था बनाने के लिए गौरघाट एवं बालम पहाड़ पर्यटन स्थल (Tourist spot) पर नायब तहसीलदार विभोर यादव, थाना सोनहत प्रभारी जेआर बंजारे एवं आबकारी उपनिरीक्षक विजिता रानू भगत की ड्यूटी लगी थी। कार्यपालिक मजिस्ट्रेट विभोर यादव ने बताया कि घटना के दिन मैं ड्यूटी पर तैनात था।

दोपहर में डूबते युवक को बचाने कई लोग पानी में कूदने को तैयार थे, जिन्हें तत्काल रोक दिया गया था। नहीं रोकने पर कई लोगों की एक साथ जान जा सकती थी और एक बड़ा हादसा हो सकता था। वहीं प्रशासनिक टीम की पिकनिक के संबंध में मुझे कोई जानकारी नहीं है।


35 सदस्यीय टीम ने निकाला शव
कोरिया डीडीआरएफ, बिलासपुर-अंबिकापुर एसडीआरएफ की ३५ सदस्यीय टीम की मदद से आज शव को निकाल लिया गया है। इसमें तीन अधिकारी भी शामिल थे।
शेखर नारायण बोरवणकर, जिला सेनानी नगर सेना कोरिया

rampravesh vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned